अपने दांतो को हमेशा स्वस्थ एवं मजबूत बनाने के लिए करें यह उपाय

0
25

हेल्थ रिपोर्ट/ उदयपुर/ ई समाचार मीडिया/ देवेंद्र कुमार टाक : मानव शरीर की बहुत ही जरूरी चीज है दांत, जब व्यक्ति हंसता है तो उसकी हंसी की सुंदरता का श्रेय उसके दांतो को जाता है, अगर इंसान के दांत सफेद चमकीले एवं निरोगी हैं तो वह खूबसूरत दिखता है और अगर दांतों में पीलापन हैं और किसी रोग के कारण दांत खराब हो रहे हैं तो इससे शरीर को भी नुकसान है और इंसान जब हंसता है तो बहुत बुरा दिखता है-अपने दांतो को हमेशा स्वस्थ एवं मजबूत बनाने के लिए करें यह उपाय

अपने दांतो को हमेशा स्वस्थ एवं मजबूत बनाने के लिए करें यह उपाय

इसीलिए अपने दांतो की सुरक्षा हमेशा करनी चाहिए उसके लिए हम आज आपको बताने जा रहे हैं कि आपको अपने दांतो को स्ट्रांग, स्वच्छ और सुंदर कैसे बनाया जाए, आइए जानते हैं विस्तार से :

डॉ मनीषा चौधरी-  दांत रोग विशेषज्ञ- ने लोगों को इतिहास दी है कि दांतो के सफाई स्वच्छता और स्वास्थ्य के लिए ही नहीं बल्कि ब्लैक पंकज के जोखिम से बचने के लिए भी जरूरी है, अगर कोरोना संक्रमित है या ठीक हो चुके हैं तो दांतो की सफाई से संबंधित कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखना बहुत ही आवश्यक है

कोरोना शंकर इन मरीजों में ठीक होने के बाद म्युकर माइकोसिस यानी ब्लैक फंगस इंफेक्शन का जोखिम अधिक देखने को मिल रहा है, इसके कुछ लक्षण दांतों से जुड़े होते हैं जैसे कि दांतों में दर्द, काली पपड़ी जमना, दांत पीले हो जाना, दांतो से अक्सर खून आना, दांतो से पस निकलना,मसूड़ों में सूजन रहना, चेहरे पर सूजन आना, आंखों के चारों तरफ सूजन व कालापन का आना, बहुत ज्यादा जुकाम और लगातार सिर में दर्द होना 

सूरत में यह दिक्कत है सामान्य लगती है, लेकिन यह ब्लैक फंगस के संकेत भी हो सकते हैं, यह समस्या अधिकतर मधुमेह के मरीज और कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों में कोरोना से संक्रमित होने के बाद देखने को मिल रही है, कोरोना होने के बाद भी शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता काफी कमजोर हो जाती है-अपने दांतो को हमेशा स्वस्थ एवं मजबूत बनाने के लिए करें यह उपाय

म्युकर माइकोसिस का समय रहते इलाज न होने पर कोरोना मरीजों में जान को खतरा बढ़ जाता है, ऐसे में यदि कोरोना संक्रमित है तो शुरु से दांतो की साफ सफाई का पूरा ध्यान रखें, कोरोना संक्रमण से ठीक होने के बाद यानी रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद अपने टूथब्रश को बदल देना चाहिए, हर इंसान को दिन में दो बार उठने के बाद और सोने से पहले ब्रश अवश्य करना चाहिए

1. मसूड़ों की मसाज : दांतों व मसूड़ों की नियमित रूप से मसाज करें हाथ पर थोड़ा सा घी या शुद्ध नारियल तेल की 2-4 बूंदे लेकर साहब उंगली से मसूड़ों की मालिश करें इससे सुबह के समय ब्रश करने से पहले और रात में सोने से पहले करें- इससे आपके दांतो को बहुत आराम मिलेगा एवं मसूड़े मजबूत होंगे

2. मुंह की सफाई : यदि संक्रमित होने के दौरान ब्रश नहीं कर पा रहे हैं तो साफ पानी से कुल्ला जरूर करें ताकि मुंह की गंदगी साफ होती रहे, अगर मरीज अस्पताल में है तो कम से कम माउथवॉश जरूर कराएं और साथ में डॉक्टर की सलाह भी जरूर ले, क्लोरहेक्सिडीन मौत व से दिन में 2-3 बालों की सफाई जरूर करें

3. अपने दांतों की जांच करते रहे : अपने दांतो के ढीलेपन, दांतो के दर्द, दांत से पस आना, दांत से खून आना और मसूड़े फूलना आदि नियमित रूप से खुद जांच कर रहे, इस प्रकार की कोई भी समस्या महसूस हो तो तुरंत दंत चिकित्सक से संपर्क करें अगर किसी मरीज के पहले से ही दांत खराब है तो संक्रमण से ठीक होने के बाद दंत चिकित्सक से मिलकर अपने दांत ठीक करा लें ताकि यह समस्या आगे ज्यादा ना बढ़े, अगर किसी मरीज को दांत खराब होने के साथ-साथ मधुमेह भी हो है तो संक्रमण से ठीक होने के बाद दंत रोग विशेषज्ञ जरूर कराएं 

4. समय समय पर अपना टूथ ब्रश बदलें : कोरोना मरीज को अपनी ब्रशिंग का खास ख्याल रखना है, कोरोना होने के बाद सबसे पहले टूथब्रश बदले क्योंकि यह वायरस मरीज के मुंह के अंदर भी होता है जिससे वायरस बरस पर भी आता है और आपके साथ-साथ आपके घर वालों को भी यह संक्रमित कर सकता है, इसलिए कोरोना से ठीक होने के बाद दूसरा नया ब्रश माल करें वही सुबह और शाम दोनों समय ब्रश करें

रिपोर्ट : देवेंद्र कुमार टांक E-समाचार.इन (जनता  की  आवाज)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here