टैक्सी चालक को इनकम टैक्स ने दिया 4.89 करोड रुपए का नोटिस

0
52

क्राइम रिपोर्ट/ चौहटन/ बाड़मेर : चौहटन तहसील के मनोरिया गांव में गजेदान (32) के साथ जो हुआ वह हैरान करने वाला है, उस गांव के किसी भी व्यक्ति को यकीन नहीं हो रहा है कि एक सामान्य टैक्सी चलाकर अपने परिवार का पालन पोषण करने वाले व्यक्ति गजेदान को इनकम टैक्स विभाग की तरफ से 4.89 करोड रुपए का नोटिस आया है-टैक्सी चालक को इनकम टैक्स ने दिया 4.89 करोड रुपए का नोटिस

आयकर विभाग ने 32.63 करोड़ रुपए के लेनदेन के मामले में 4.89 करोड़ रुपए का बकाया टैक्स का नोटिस भेजा है, यह ट्रांजैक्शन उसके पैन कार्ड का इस्तेमाल कर बिजनेस अकाउंट से किया गया है, पीड़ित का कहना है कि वह मजदूर है और गांव में टैक्सी चलाकर हर माह 8-10 हजार रुपए कमाता है, उसने कभी जिंदगी में इतनी बड़ी रकम ना तो सुनी और ना ही कभी देखी है

वह टैक्सी चलाकर परिवार का गुजारा चला रहा है, उसके नाम पर ना तो कोई फार्म है और ना ही कोई बिजनेस है, और ना ही उसने कभी इतना बड़ा लेनदेन किया है, पीड़ित ने इनकम टैक्स जोधपुर में बयान दर्ज करवाए हैं, मामले की रिपोर्ट बाखासर पुलिस थाने में की गई हैं, रिपोर्ट में दस्तावेजों का गलत इस्तेमाल कर दो घड़ी का आरोप लगाया है

गजेदान ने 19 फरवरी को रिपोर्ट देकर बताया कि 11 फरवरी 2021 को सहायक आयुक्त राज्य कर वृत्ति कार्य वचन जोधपुर ने उसे समन दिया है, 15 फरवरी को सहायक आयुक्त जोधपुर के समक्ष पेश हुआ, इस पर पता चला कि 4.89 करोड़ रुपए टैक्स चुकाने का नोटिस दिया है

हमारी टीम की पड़ताल में यह सामने आया कि : गजेदान के दस्तावेजों से किसी ने फर्जी फर्म बनाकर 32.63 करोड़ रुपए की फर्जी बिलिंग की है, उसी के तहत 4.89 करोड़ का टैक्स बकाया होना सामने आया है- पीड़ित गजेदान का आरोप है कि पेन, आधार, बैंक के खाता संख्या और अन्य जरूरी दस्तावेज की जानकारी चौहटन की एक फाइनेंस कंपनी को दी थी, करीब 1 साल पहले फाइनेंस पर टैक्सी खरीदी थी

टैक्सी चालक को इनकम टैक्स ने दिया 4.89 करोड रुपए का नोटिस

उसके दस्तावेजों के नाम में सर्च एसएलवी इंटरनेशनल दिल्ली के नाम की फर्म का पंजीयन किया गया है, गजेदान ने कहा कि इस फर्म से उसका कोई लेना-देना नहीं है, यह फॉर्म किसने बनाई उसकी उसको जानकारी नहीं है, इस फर्म के पंजीयन में मोबाइल नंबर 9116921023 का इस्तेमाल हुआ है, जो भी उसका नहीं है, तथा ईमेल आईडी का भी रजिस्टर है वह भी उसका नहीं है, इस फर्म से 32.63 करोड़ रुपए का गलत तरीके से ट्रांजैक्शन किया है, जिसका जीएसटी 4.89 करोड रुपए है

पुलिस ने दर्ज नहीं किया था मामला : गजेदानने 19 फरवरी को खासा सर थाने में धोखाधड़ी और फर्जी तरीके से फर्म बना कर करोड़ों के लेनदेन करने की अज्ञात लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी, लेकिन 12 दिन बाद भी पुलिस ने मामला दर्ज नहीं किया है, पुलिस हमेशा हर मामले में ढिलाई बरती हैं या ऐसा कहें कि आरोपियों को बचाने की कोशिश में लगी रहती हैं-टैक्सी चालक को इनकम टैक्स ने दिया 4.89 करोड रुपए का नोटिस

इधर खासा सर थाने के थानेदार नीब सिंह द्वारा यह बयान सामने आया है कि थाने में जीएसटी फॉर्म बनाकर करोड़ों का लेनदेन करने की रिपोर्ट मिली थी, उसे जांच में रखा गया है, इनकम टैक्स से भी इसको लेकर सबूत मांगे गए हैं, पुलिस पूरी मुस्तैदी से इसकी पड़ताल कर रही है जल्द ही रिपोर्ट दर्ज कर लेंगे और मामला आगे बढ़ाया जाएगा

न्यूज :- देवेंद्र कुमार टांक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here