वल्लभनगर उपचुनाव-2021 आचार संहिता के उल्लंघन की सूचना दें

0
15

उदयपुर, 9 अक्टूबर/ ई समाचार मीडिया / बेतवा भूमि समाचार / देवेंद्र कुमार टांक : उदयपुर जिले के वल्लभनगर और प्रतापगढ़ के धरियावद विधानसभा उपचुनाव में आदर्श आचार संहिता का पालन कराने के लिए चुनाव आयोग सक्रिय हो गया है। आचार संहिता का कहीं भी उल्लंघन हुआ तो 100 मिनट के अंदर कार्रवाई की जाएगी। आयोग ने जनता की मदद से आचार संहिता का उल्लंघन करने वालों पर शिकंजा कसने के लिए सी-विजिल मोबाइल एप तैयार किया है। इस पर शिकायत की जा सकेगी और प्रशासन को सौ मिनट में कार्रवाई करके रिपोर्ट देनी होगी।100 मिनट में होगी प्रभावी कार्यवाही: अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी – सी-विजिल‘ एप के माध्यम से आयोग का मिशन 100-वल्लभनगर उपचुनाव-2021 आचार संहिता के उल्लंघन की सूचना दें

वल्लभनगर उपचुनाव-2021 आचार संहिता के उल्लंघन की सूचना दें

100 मिनट में होगी कार्रवाई :
अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी कृष्ण कुणाल ने बताया कि प्रदेश में वल्लभनगर और धरियावद विधानसभा उपचुनाव 2021 में आदर्श आचार संहिता (एमसीसी) के उल्लंघन पर प्रभावी कार्यवाही के लिए आमजन ‘सी-विजिल‘ (नागरिक सतर्कता) एप का इस्तेमाल कर सकते हैं। इस एप की खास बात यह है कि आचार संहिता से जुड़ी किसी भी शिकायत का समाधान महज 100 मिनट में हो जाता है।

उन्होंने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग निर्वाचन प्रक्रिया को सुगम और प्रभावी बनाने के लिए नित नई तकनीक का इस्तेमाल कर रहा है। इसी कड़ी में आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन को रोकने में इस एप अहम भूमिका निभा रहा है। भारत निर्वाचन आयोग ने कई राज्यों में इस एप के जरिए प्रभावी कार्यवाही की है। उन्होंने कहा कि कॉलेज के विद्यार्थियों और अन्य को प्रेरित करते हुए सी विजील एप को डाउनलोड करवाया जाए।

फास्ट ट्रेक समाधान :
अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी कृष्ण कुणाल ने बताया कि अभी तक आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की शिकायतों पर पर्याप्त सबूतों के अभाव में कड़ी कार्यवाही नहीं हो पाती थी, अब इस एप के जरिए फास्ट ट्रेक शिकायत प्राप्ति और समाधान प्रणाली से प्राप्त शिकायतों का तय समय सीमा में कार्रवाई संभव होगी। उन्होंने कहा कि कोई भी व्यक्ति एन्ड्रॉयड आधारित सी-विजिल एप को मोबाइल फोन में डाउनलोड कर सकता है। उन्होंने बताया कि यह एप्लीकेशन केवल उन्हीं राज्यों की भौगोलिक सीमा के भीतर उपभोग्य होगी जहां निर्वाचन चल रहे हैं।

कोई भी कर सकता है शिकायत:
जिला निर्वाचन अधिकारी (कलक्टर) चेतन देवड़ा ने बताया कि आमजन आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने वाली गतिविधियों का संक्षेप में विवरण करते हुए एक फोटो खींचें या 2 मिनट का एक वीडियो बनाएं। शिकायत दर्ज करने से पहले उसका संक्षेप में उल्लेख करें। शिकायत के साथ संलग्न जीआईएस सूचना स्वतः संबंधित जिला नियंत्रण कक्ष तक पहुंच जाती है, जिसके फलस्वरूप उड़नदस्ता कुछ ही मिनटों में घटनास्थल पर भेजकर कार्यवाही सुनिश्चित करता है। इसके लिए उड़न दस्तों को दिए जाने वाले वाहन में ग्लोबल पोजीशनिंग सिस्टम (जीपीएस) लगाया जाएगा। कंट्रोल रूम में बैठे अधिकारी तुरंत कार्रवाई के लिए नजदीकी उड़न दस्ते को मौके पर भेजेंगे।

राज्य उपभोक्ता विवाद प्रतितोष आयोग का फैसला – चिकित्सकीय लापरवाही को माना सेवा दोष, उदयपुर की स्वैच्छा कोठारी को 17 लाख 34 हजार 284 रूपये की क्षतिपूर्ति दिलाने का निर्णय :
उदयपुर, 9 अक्टूबर। राज्य उपभोक्ता विवाद प्रतितोष आयोग ने उदयपुर जिले में चिकित्सकीय लापरवाही के लिए एक परिवादी को 17 लाख 34 हजार 284 रुपये की क्षतिपूर्ति दिलाने का निर्णय किया है। राज्य उपभोक्ता आयोग के न्यायिक सदस्य एस.के.जैन एवं सदस्य रामफूल गुर्जर ने गत माह सर्किट बैंच उदयपुर सिटिंग के दौरान फैसला सुनाया कि चिकित्सीय लापरवाही पर हिरण मगरी, उदयपुर निवासी स्वैच्छा कोठारी को 17 लाख 34 हजार 284 रूपये की क्षतिपूर्ति गीताजंली मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल एवं उदयपुर के डॉ. ए.के. गुप्ता, ई.एन.टी विशेषज्ञ अदा करेगें।

सदस्य गुर्जर ने बताया कि 16 वर्षीय स्वैच्छा कोठारी के नाक के अन्दर मांस बढ़ गया था जिसे नजल पोलिप कहते है। डॉ. ए.के. गुप्ता ई.एन.टी. विशेषज्ञ मेडिकल कॉलेज एवं गीताजंली अस्पताल उदयपुर के यहाँ स्वैच्छा कोठारी को परिजनों ने 10 अप्रैल, 2008 को दिखाया और 11 अप्रैल, 2008 को बिना सी.टी. स्केन कराये आपरेशन कर दिया, जिसके कारण स्वैच्छा कोठारी को ब्रेन हेमरेज हो गया। जिसके कारण उसे भयंकर सिर दर्द हुआ। सदस्य गुर्जर ने बताया कि तत्पश्चात परिजनों ने स्वैच्छा को अहमदाबाद जाकर दिखाया तथा ब्रेन का आपरेशन करवाया।

ब्रेन हेमरेज के कारण परिवादी कोठारी भविष्य में अपना सामान्य जीवन व्यतीत नही कर सकेगी। साथ ही वह वाहन नहीं चला सकती और आग तथा पानी के पास नहीं जा सकेगी। साथ ही ऊंची चढ़ाई भी नहीं चढ़ सकती है। इसलिए राज्य उपभोक्ता आयोग ने गीताजंली हास्पीटल एवं मेडिकल कॉलेज उदयपुर तथा नाक, कान एवं गला

विशेषज्ञ डॉ. ए. के. गुप्ता की लापरवाही मानते हुए स्वैच्छा कोठारी को इलाज के 184284 रुपये, परिवादी को मानसिक एवं शारीरिक सन्ताप पेटे क्षतिपूर्ति स्वरूप 12 लाख रूपये एवं भविष्य में इलाज के पेटे 3 लाख रूपये और परिवाद खर्च 50000 रुपये दिलाये जाने का निर्णय सुनाया। इस प्रकार कुल 17 लाख 34 हजार 284 रुपये क्षतिपूर्ति स्वरूप गीताजंली मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल उदयपुर, डॉ..ए.के गुप्ता अदा करेंगे-वल्लभनगर उपचुनाव-2021 आचार संहिता के उल्लंघन की सूचना दें

रिपोर्ट : देवेंद्र कुमार टांक   E–समाचार.इन (जनता  की  आवाज)

INDIAN GOVERNMNET REGISTERED  (RNI -MPHIN /2020 /35645 )

कृपया सभी जन मास्क लगाए।  सोशल दुरी रखे।  बार – बार अपने हाथों को साबुन या सेनेटाइजर साफ़ करिये। भीड़ – भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचिए। अपना और अपने परिवार वालों का अपने बच्चो का ख्याल रखिये।  स्वस्थ्य रहिये – सुरक्षित रहिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here