पारा कमांडो कैप्टन अंकित का शव छठे दिन मिला

0
8

सिटी रिपोर्ट / एजेंसी/ जोधपुर : पारा कमांडो कैप्टन अंकित का शव छठे दिन मिला- 200 लोगों की टीम ने रोज 12 घंटे सर्च ऑपरेशन जारी रखा, छठे दिन एंकर में फंसने से मिला कैप्टन का शव, जोधपुर के ताकत सागर में स्पेशल ऑपरेशन ड्रिल हेलो कास्टिंग के दौरान लापता हुए कैप्टन अंकित गुप्ता 28 वर्षीय का शव के 6 दिन मिल गया

पारा कमांडो कैप्टन अंकित का शव छठे दिन मिला

72 घंटे तक चले सबसे बड़े सर्च ऑपरेशन के बाद कैप्टन का शव पत्रों के बीच उसी जगह फंसा मिला, जहां पर वह हेलीकॉप्टर से कूदे थे दोपहर को ऊपर से डाले गए एंकर में उनके कपड़े फंस गए काफी मशक्कत के बाद जवानों ने उन्हें खींचकर बाहर निकाला

इस ऑपरेशन में 10 पैरा यूनिट के कमांडो, मार्कोस कमांडो, गरुड़ कमांडो शहीद 200 से अधिक लोगों की टीम लगी कैप्टन का शव खराब हालत में मिला है अब परिजन तय करेंगे कि जवान को अंतिम विदाई जोधपुर में दी जाए या वह गुरु ग्राम स्थित अपने घर ले जाएंगे

पानी को कंप्रेसर से हिलाया, तब जाकर पत्थरों के बीच से निकला शव : कैप्टन की खोज के लिए शहर के एक उद्यमी ने सेना को कंप्रेसर उपलब्ध कराया एवं 1500 फीट पाइप पहुंचाया इस पाइप को तरसती में डालकर हेवी प्रेशर की हवा छोड़ने से अंदर का पूरा पानी ही लाया गया पानी में हरकत से पहाड़ी के बीच दबाव ने जगह छोड़ी और कपड़े में अटक गए

पारा कमांडो कैप्टन अंकित का शव छठे दिन मिला

रोज उम्मीद से कायलाना आता था परिवार : कैप्टन अंकित गुप्ता के लापता होने के बाद नव विवाहित पत्नी, माता पिता, सास ससुर सहित अन्य परिजन बहुत बुरे दौर से गुजरे हैं, पति, बेटा व दामाद के मिलने की आस में यह लोग रोज ताकत सागर पहुंचते एक तरफ खड़े होकर अपने लाडले को खोजने में जुटे जवानों की गतिविधियों को पथराई आंखों से देखते रहते, फिर सेना के लोग उन्हें समझा कर वापस ले जाते थे 6 दिन से लगातार ऐसा हो रहा था

महज 45 दिन ही रह पाया वैवाहिक जीवन: पत्नी बहुत सदमे में : कैप्टन अंकित का वैवाहिक जीवन महज 45 दिन ही रह पाया, 23 नवंबर को विवाह बंधन में बंधे थे और 7 जनवरी को पानी में ऐसे समाए कि उनकी बॉडी ही बाहर आई -पारा कमांडो कैप्टन अंकित का शव छठे दिन मिला

गहरे सदमे में डूबी अंकित की नव विवाहित पत्नी को संभालना परिवार के लिए भारी पड़ रहा है,  शादी के चंद दिनों बाद भाई के साथ जीवन के अगले 25 बरस की योजना पर विचार करने वाले अंकित इस तरह अलविदा हो गए या परिवार के लिए एक बहुत बड़ा धक्का है

पारा कमांडो कैप्टन अंकित का शव छठे दिन मिला

लापता रहते एक आस थे कैप्टन अंकित 7 जनवरी को लापता हुए तो अनहोनी की आशंका के बीच एक सीट से आज भी थी, यह आज उनके सैनिक साथियों और परिवार के साथ पूरे शहर को भी थी देश के सपूत से शहरवासियों के फिक्र के धागे जुड़ गए थे,

उनके इतने दिनों से लापता रहने की चर्चा और सब कुशल मिलने की एक आशा चारों और थी, ई समाचार ने इन 6 दिनों में अपनी खबरों में कैप्टन अंकित को हमेशा लापता ही माना, छठे दिन जब पता चला कि उनकी डेट बॉडी तख्तसागर से बाहर आई है तो मंगलवार को यह आशा भी टूट गई

न्यूज :- देवेंद्र कुमार टांक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here