कलक्टर ने फतेहनगर नगरपालिका का किया निरीक्षण 

0
29

उदयपुर, 04 अगस्त। जिला कलक्टर ताराचंद मीणा गुरुवार को फतहनगर दौरे पर रहे। इस अवसर पर उन्होंने नगर पालिका फतेहनगर का निरीक्षण किया और नगरपालिका के कार्यों की जानकारी ली। उन्होंने नगरपालिका क्षेत्र के वार्ड संख्या 3 के यादव मोहल्ला में स्थित सामुदायिक भवन में आयोजित प्रशासन शहरों के संग शिविर का निरीक्षण किया और नगर पालिका के अधिशाषी अधिकारी सहित संबंधित अधिकारियों को राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप अधिक से अधिक जरूरतमंद एवं पात्र लोगों को लाभान्वित करने के निर्देश दिए-कलक्टर ने फतेहनगर नगरपालिका का किया निरीक्षण

कलक्टर ने फतेहनगर नगरपालिका का किया निरीक्षण 

उन्होंने शिविर के दौरान किये गये पट्टे वितरण के संबंध में भी जानकारी ली और निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप पट्टे वितरित करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही कलक्टर ने इंदिरा गांधी शहरी क्रेडिट योजना के तहत बेरोजगार युवाओं को ब्याज मुक्त ऋण दिलाने के लक्ष्य भी अर्जित करने के लक्ष्य दिए। अधिशाषी अधिकारी ललित सिंह देथा ने बताया कि इस अभियान के तहत राज्य सरकार के निर्देशानुसार निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप 3 हजार पट्टे वितरित किए जाने है और अब तक एक हजार सैतीस पट्टे जारी हो चुके है।

इसके साथ ही देथा ने शिविर की प्रगति एवं क्षेत्र में हुए विभिन्न विकास कार्यों के संबंध में जानकारी न्रदान की।
इस अवसर पर कलक्टर ने नगरपालिका के पार्षदगण, अन्य स्थानीय जनप्रतिनिधि व गणमान्य लोगों से भी क्षेत्र के विकास के संबंध में चर्चा की और नगरपालिका क्षेत्र के लोगों से संवाद कर जनसुनवाई की। जनप्रतिनिधियों एवं स्थानीय लोगों द्वारा बताई गई समस्याओं के शीघ्र समाधान का आश्वासन दिया और आवश्यक सुविधा विस्तार के लिए संबंधित विभागों को निर्देश प्रदान किए।

इसके साथ ही कलक्टर ने मार्ग में पड़ने वाली ग्राम पंचायत नांदवेल, मेडता व तुलसीदास जी की सराय में भी जनसुनवाई की और इस मौके पर मौजूद अधिकारियों को जनराहत के कार्यों को प्राथमिकता प्रदान करने एवं लोगों की समस्याओं के त्वरित निस्तारण के निर्देश दिए।

मेड़ता स्कूल का किया औचक निरीक्षण:
क्षेत्रीय भ्रमण दौरान कलक्टर मीणा ने मेड़ता स्कूल का भी औचक निरीक्षण किया और विद्यालय में संचालित होने वाली गतिविधियों की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने विद्यार्थियों के हित में सरकार की ओर से दी जाने वाली हर संभव सहायता व सुविधाओं को समय पर उपलब्ध कराने, शैक्षिक उन्नयन के साथ शिक्षा में नवाचार करने, विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करने आदि निर्देश विद्यालय प्रबंध को प्रदान किए। विद्यालय प्रभारी ने कलक्टर का स्वागत कर स्कूली गतिविधियों एवं उपब्धियों के बारे में जानकारी प्रदान की। मेडता में आयोजित जनसुनवाई एवं विद्यालय निरीक्षण के दौरान मावली प्रधान पुष्करलाल डांगी भी मौजूद रहे।

कृषि विभाग की पहल-मक्का फसल को फाल आर्मी कीट से बचाने के बताएं उपाय :
उदयपुर, 4 अगस्त। जिला कलक्टर तारांचद मीणा के निर्देशानुसार कृषि विभाग की ओर से जिले में मक्का फसल में फालआर्मी कीट का प्रकोप होने की संभावना को देखते हुए कीट की पहचान एवं नियंत्रण के संबंध में उचित परामर्श जारी किये गये है।
उपनिदेशक कृषि विस्तार माधव सिंह चंपावत ने बताया कि विभाग ने फसल में फॉल आर्मी कीट प्रबन्धन के संबंध में परामर्श दिया है ताकि समय रहते किसान अपनी फसलों को इन कीटांें केे प्रकोप से बचा सके।

उन्होंने बताया कि जिले में अंतिम 1 महीने से लगातार वर्षा होने से कीट का नियंत्रण स्वतः हो रहा था लेकिन एक सप्ताह से वर्षा कम होने से कीट का प्रकोप उसकी अनुकूलतम दशा मिलने से बढ़ रहा है अगर लगातार वर्षा होती है तो कीट नियंत्रित होता रहता है। उन्होंने यह भी बताया कि राज्य सरकार के दिशा-निर्देशानुसार जिले में सभी ग्राम पंचायत स्तर पर फॉल आर्मी वर्म प्रकोप पर प्रशिक्षणों को आयोजन समय-समय किया जा रहा है।

सभी ग्राम पंचायत स्तर पर अगले तीन दिनों में कृषक गोष्ठियों का आयोजन कर कृषकों को जागरूक किया जायेगा। राज्य सरकार 5000 हैक्टर में मक्का की फसल में फॉल आमी वर्म के नियंत्रण हेतु रसायन की स्वीकृति प्राप्त हुई है। जिसके लिए प्रति हैक्टर 500 रुपये कीटनाशी हेतु प्रावधान है। अनुदान हेतु कृषक राज किसान साथी पर पंजीकृत आदान विक्रेता से कीटनाशी खरीद कर अनुदान प्राप्त कर सकेगा।

कीट की पहचान व नुकसान:
उपनिदेशक सिंह ने बताया कि अण्डों से निकली प्रथम अवस्था की लार्वा का रंग हल्का पीला या सफेद होता है सिर काले रंग का होता है। जैसे-जैसे लार्वा बड़ा होता इसके सिर पर उलटी (वाई) आकार का निशान होता है। इस कीट की सूण्डी मक्का के तनों में छेद करके अन्दर घुस जाती है। पत्तियों पर छिद्र हो जाते है। मक्का के तने की कोमल पत्तियों को खाते हुऐ बहुत सारा विष्ठा (मल) पत्तियों पर छोड देती है। साथ ही इस कीट का प्रकोप ज्यादा होने पर सुण्डियां भुट्टों को छेदकर दानों को भी नुकसान पहुंचाती है। इसकी पसंदीदा फसल मक्का है।

नियंत्रण व बचाव:
उन्होंने बताया कीट से नियंत्रित करने हेतु हाथों से लार्वा चून कर और अण्डों को केरोसीन मिश्रित पानी में डूबो कर नष्ट कर सकते हैं। फॉल आमी वर्म आक्रमण के बाद प्रभावित मक्का के पोधों के पोटे या गाला में सूखी रेत का प्रयोग करना चाहिए। 15 फीरोमन ट्रेप प्रति एकड के हिसाब से लगा कर नियंत्रण किया जा सकता है। एजाडिरेक्टिन 1500 पीपीएम, 5 मिली को छिड़काव करके भी नियंत्रण किया जा सकता है।

ट्राईकोग्रामा प्रेटियोसम या टीलोनामेस रेमस, अण्ड पर जीव्याभ को 50000 प्रति एकड की दर से एक सप्ताह के अन्तराल पर मक्का की फसल में छोड़कर बचाव कर सकते है। मेटाराईजियम एनीसोपिली अथवा ब्यूवेरिया बेसियाना अथवा न्यूमेरिया रिली की 5 ग्राम मात्रा प्रति लीटर पानी की दर से घोल बनाकर मक्का की फसल की बुवाई के 15-25 दिन बात तने में उपयोग कर इस पर नियंत्रण किया जा सकता है। वहीं निर्धारित मात्रा में ईमामेक्टिन बेन्जोएट स्पाइनेटोरम, क्लोरन्ट्रानिलप्रोल, थायमिथोक्जोम, लेम्डासायहेलाथ्रिन, ट्राईकोकार्ड आदि के उपयोग के भी मक्का की सुरक्षा की जा सकती है।

नवोदित उद्यमियों और स्टार्टअप्स के लिए आईस्टार्ट उदयपुर में ओपन माइक सेशन आज
उदयपुर, 4 अगस्त। स्टार्टअप इकोसिस्टम को मजबूत करने के लिए राजस्थान सरकार द्वारा कई पहल की जा रही हैं। इन्वेस्टर कनेक्ट और आउटरीच और जागरूकता कार्यक्रम उनमें से एक हैं। आईस्टार्ट राजस्थान शुक्रवार को 5 अगस्त को सूचना प्रौद्योगिकी और संचार विभाग उदयपुर की ओर से आईस्टार्ट नेस्ट इनक्यूबेशन सेंटर उदयपुर में आईस्टार्ट आउटरीच और जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

आईटी उपनिदेशक शीतल अग्रवाल ने बताया कि डीओआईटी एंड सी आयुक्त और संयुक्त सचिव आशीष गुप्ता कार्यक्रम का शुभारंभ करेंगे और टीआईई उदयपुर के संस्थापक मनीष गोधा, विनीत राठी, निवेशक ऋषभ वर्डिया, दीपक भंसाली, अमित शर्मा, हितेश गांधी स्टार्टअप पिचिंग सुनेंगे और अनुभव साझा करेंगे। कार्यक्रम के तहत आयोजित सत्र में टीआईई उदयपुर के सहयोग से स्टार्टअप इन्वेस्टर्स कनेक्ट का आयोजन किया जाएगा। एक अन्य सत्र में हेल्थ-टेक, एड-टेक, एग्रो-टेक, ट्रैवल एंड टूरिज्म, कारीगर, सप्लाई चेन सेक्टर जैसे विभिन्न क्षेत्रों के 15 से ज्यादा स्टार्टअप निवेशकों के सामने अपने बिजनेस आइडिया पेश करेंगे।

इस ओपन माइक स्टार्टअप इन्वेस्टर कनेक्ट का आयोजन टीआईई उदयपुर के सहयोग से किया जा रहा है। इस कार्यक्रम में उदयपुर के विभिन्न कॉलेजों के 50 से अधिक छात्र और उभरते उद्यमी आईस्टार्ट राजस्थान के आउटरीच और जागरूकता कार्यक्रम में भाग लेंगे, जिसमें आईस्टार्ट सलाहकार डीओआईटी एंड सी द्वारा शुरू की गई योजनाओं और पहलों के बारे में स्टार्टअप और उभरते उद्यमियों को जानकारी साझा करेंगे ।

उदयपुर में एनवाईके का हर घर तिरंगा अभियान शुरू , जिला कलक्टर ने किया शुभारंभ
उदयपुर 4 अगस्त। युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार नेहरू युवा केंद्र उदयपुर द्वारा आजादी के अमृत महोत्सव के अन्तर्गत उदयपुर जिले में हर घर तिरंगा अभियान का आगाज गुरुवार को जिला कलक्टर ताराचंद मीणा ने किया। कलक्टर ने कहा कि यह अभियान युवाओं को राष्ट्रनिर्माण एवं तिरंगे के सम्मान के लिए प्रेरित करता है। हर युवा राष्ट्र के प्रति अपना दायित्व निभाते हुए इस अभियान को साकार बनाने का आह्वान किया।

जिला युवा अधिकारी शुभम पूर्बिया ने बताया कि जिले के युवा क्लबों के माध्यम से आजादी का अमृत महोत्सव के तहत हर घर में तिरंगा फहराने के लिए घरों में संपर्क किया जा रहा है। प्रत्येक युवा क्लब द्वारा अपने ग्राम अथवा निकटवर्ती ग्रामों के सभी घरों अथवा कम से कम 200 घरों में संपर्क कर तिरंगा फहराने का आग्रह किया जाएगा। साथ ही युवा मंडल विकास अभियान के तहत राष्ट्रीय युवा स्वयंसेवक द्वारा सभी ब्लॉक के गांव-गांव में नए यूथ क्लब का गठन, स्वतंत्रता सेनानियों की कहानियों का संग्रहण, पौधारोपण आदि गतिविधियां आयोजित की जाएंगी।

नेहरू युवा केंद्र के स्वयंसेवकों द्वारा टेरिस गार्डन में प्लास्टिक संग्रहण कर 1 से 15 अगस्त तक स्वच्छता पखवाड़ा भी चलाया जा रहा है। ग्रामीण स्तर पर स्वच्छता शपथ, स्वच्छता रैली, प्लास्टिक वेस्ट कलेक्शन, पौधारोपण आदि गतिविधियां अगस्त माह में आयोजित की जानी है। इस अवसर पर एनवाईके के मुकेश मेनारिया, युवा स्वयंसेवक भरत, संजय आदि उपस्थित रहे-कलक्टर ने फतेहनगर नगरपालिका का किया निरीक्षण

रिपोर्ट : देवेंद्र कुमार टांक   E–समाचार.इन (जनता  की  आवाज)

INDIAN GOVERNMNET REGISTERED  (RNI -MPHIN /2020 /35645 )

कृपया सभी जन मास्क लगाए।  सोशल दुरी रखे।  बार – बार अपने हाथों को साबुन या सेनेटाइजर साफ़ करिये। भीड़ –भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचिए। अपना और अपने परिवार वालों का  ख्याल रखिये।  स्वस्थ्य रहिये –सुरक्षित रहिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here