हॉट सीट वल्लभनगर पर अब चौतरफा मुकाबला

0
13

वल्लभनगर / उदयपुर / ई समाचार मीडिया / बेतवा भूमि समाचार / देवेंद्र कुमार टांक : विधानसभा उपचुनाव में सबसे हॉट सीट वल्लभनगर पर अब चौतरफा मुकाबला हो गया है। टिकट कटने पर बीजेपी के उदयलाल डांगी बागी हो गए हैं। उन्होंने राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी (RLP) से इस सीट पर नामांकन भर दिया है-हॉट सीट वल्लभनगर पर अब चौतरफा मुकाबला

हॉट सीट वल्लभनगर पर अब चौतरफा मुकाबला

कांग्रेस दोनों सीटों वल्लभनगर व धरियावद पर बागियों को साधने में कामयाब रही है। बीजेपी विफल हो गई। हालांकि नामांकन वापस लेने में फिलहाल पांच दिन शेष हैं, लेकिन समीकरण को देखते हुए ऐसा नहीं लगता कि डांगी अपना नामांकन वापस लेंगे। बीजेपी से हिम्मत सिंह झाला और कांग्रेस से प्रीति शक्तावत ने भी शुक्रवार को अपना-अपना नामांकन भरा।

अपने टिकट को लेकर कॉन्फिडेंट थे डांगी : वल्लभनगर से उदयलाल डांगी बीजेपी से टिकट को लेकर काफी कॉन्फिडेंट थे। टिकट तय होने से 4 दिन पहले ही डांगी ने अपने नाम के पैम्पलेट सहित तमाम प्रचार सामाग्री छपने के लिए भेज दी थी। डांगी 7 अक्टूबर की सुबह नामांकन भरने वाले थे। इसकी घोषणा भी उन्होंने की थी।

सूत्रों की मानें तो नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया ने डांगी को टिकट के लिए आश्वस्त कर चुनावी तैयारी में जुटने को कह भी दिया था। ऐसे में अचानक टिकट कटने से डांगी नाराज हुए और पहले निर्दलीय नामांकन भरा और फिर RLP से जुड़ गए।

उदयलाल की बगावत से कांग्रेस को होगा फायदा : वल्लभनगर में उदयलाल डांगी की बगावत से कांग्रेस को फायदा हाेता दिख रहा है। कांग्रेस से कई उम्मीदवार होने के बावजूद किसी ने भी नामांकन दाखिल नहीं किया। बीजेपी से बगावत कर उदयलाल डांगी ने नामांकन दाखिल कर दिया है।

वल्लभनगर के राजनीतिक समीकरण को देखें तो मुकाबला कांग्रेस और जनता सेना में होता है। बीजेपी का उम्मीदवार जनता सेना के ही वोट काटता है। ऐसे में अब उदयलाल डांगी के भी खड़े हो जाने से बीजेपी, जनता सेना और RLP के वोट आपस में कट सकते हैं। इसका फायदा कांग्रेस को मिल सकता है।

कांग्रेस को हमेशा मिलता रहा है तीसरे प्रत्याशी का फायदा : वल्लभनगर में वोटों का गणित भी यही बताता रहा है कि पिछले 5 चुनावों में शक्तावत परिवार और भींडर गुट की लड़ाई में तीसरे धड़े ने जिसके वोट काटे, वो हार गया। 2018 के चुनाव में तीसरे नम्बर पर रहे बीजेपी के उदयलाल डांगी को 46392 वोट मिले थे i

जबकि दूसरे नम्बर पर रहे रणधीर सिंह भींडर और चुनाव जीतने वाले गजेंद्र सिंह शक्तावत के बीच वोटों का अंतर लगभग सवा तीन हजार का रहा था। ऐसे में यह माना गया कि अगर डांगी चुनाव में भींडर के वोट नहीं काटते तो आसानी से भींडर चुनाव जीत सकते थे। ऐसा ही कुछ गणित पिछले चुनावों में भी रहा है-हॉट सीट वल्लभनगर पर अब चौतरफा मुकाबला

रिपोर्ट : देवेंद्र कुमार टांक   E–समाचार.इन (जनता  की  आवाज)

INDIAN GOVERNMNET REGISTERED  (RNI -MPHIN /2020 /35645 )

कृपया सभी जन मास्क लगाए।  सोशल दुरी रखे।  बार – बार अपने हाथों को साबुन या सेनेटाइजर साफ़ करिये। भीड़ – भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचिए। अपना और अपने परिवार वालों का अपने बच्चो का ख्याल रखिये।  स्वस्थ्य रहिये – सुरक्षित रहिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here