सुखेर स्थित शर्मा मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल का रजिस्ट्रेशन रद्द

0
71

क्राइम रिपोर्ट/ उदयपुर/ ई-समाचार मीडिया/ देवेंद्र कुमार टाक : शहर में जब कोरोना संक्रमण पीक पर था, विशेषक डॉक्टर नहीं होने के बावजूद इलाज के नाम पर कोरोना संक्रमितों की जान जोखिम में डालने पर शर्मा मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल की निदेशक और डॉक्टर सहित सात जनों के खिलाफ सुखेर थाने में मुकदमा दर्ज हुआ-सुखेर स्थित शर्मा मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल का रजिस्ट्रेशन रद्द

सुखेर स्थित शर्मा मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल का रजिस्ट्रेशन रद्द

जिला चिकित्सा अधिकारी दिनेश खराड़ी ने हॉस्पिटल निदेशक डॉक्टर कुसुम शर्मा, डॉ अनिल शर्मा, गिरधारी लाल मीणा, सुनील भागसरा, जितेंद्र कुमार जैन, सुरज्ञान मीणा और सुनील कुमार को नामजद कराया है,रिपोर्ट में बताया कि जिला कलेक्टर द्वारा गठित आपदा प्रबंधन प्राधिकरण जांच दल की रिपोर्ट में पाया गया कि शर्मा हॉस्पिटल में round-the-clock कोरोना मरीजों के उपचार के लिए विशेषज्ञ, एमबीबीएस, फैमिली या कोई अन्य चिकित्सक कार्यरत नहीं है

कोरोना मरीजों की अधिक मौतें होने की वजह हॉस्पिटल में पर्याप्त चिकित्सा और नर्सिंग स्टाफ का अभाव था, यही नहीं हॉस्पिटल में गलत तथ्य प्रस्तुत कर कमेटी को गुमराह भी किया, जांच में यह भी पाया गया कि लोगों को कोरोना महामारी के चलते हॉस्पिटल में भर्ती तो कर रहे थे परंतु उनका ना तो इलाज हो पा रहा था, ना ही उनका ध्यान रखा गया था इसके चलते इस हॉस्पिटल में कई मौतें हो गई थी,कौन है जिम्मेदार उन मौतों का

शर्मा मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल के प्रबंधन डॉ सुनील कुमार ने बैठक में खुद को एमडी मेडिसिन और पूर्णकालिक कार्यरत बताया, परंतु समिति के सामने मुकरे : 10 मई को हुई बैठक में डॉ सुनील कुमार ने खुद को एमडी मेडिसिन और पूर्णकालिक कार्यरत होना बताया था, जबकि समिति के समक्ष ना कह दिया, राजस्थान राज्य पत्र 6 जून 2013 के तहत न्यूनतम मानकों की पालना नहीं करने पर हॉस्पिटल का प्रोविजनल रजिस्ट्रेशन निरस्त किया जा चुका है

हॉस्पिटल प्रशासन ने जानबूझकर करो ना मरी जो की जान से खिलवाड़ उनको मौत के मुंह में धकेल दिया, जांच के लिए मुकदमा दर्ज कराया मामले की जांच थानाधिकारी मुकेश सोनी करेंगे, बता दें इससे पहले 3 जून को भी डॉक्टर कुसुम, सुरज्ञान मीणा, अनिल और सुनील के खिलाफ सीएमएचओ ने थाने में धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज कराया था, इसमें हॉस्पिटल संचालन के रूप से फर्जी पाए गए थे 

जिला चिकित्सा अधिकारी डॉ दिनेश खराड़ी ने शर्मा मल्टी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल के दरवाजे पर नोटिस चस्पा दिया है और नोटिस पर लिखा गया है कि यह अस्पताल मरीजों के इलाज के लिए अधिकृत नहीं है- इसका सीधा-सीधा यह तात्पर्य है कि हॉस्पिटल को सीज कर दिया गया है और इस हॉस्पिटल में अब से किसी का भी इलाज नहीं हो पाएगा तथा इसे पूरी तरह से बंद कर दिया गया है

शर्मा मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल के निदेशक डॉ अनिल शर्मा का कहना है कि : हॉस्पिटल 1 साल की लीज पर जितेंद्र हेल्थ केयर सोसाइटी को दे रखा है, जिसकी 20 जुलाई 2021 में खत्म होने वाली है, मिनी की जिम्मेदारी थी डॉक्टर सहित अन्य स्टाफ उपलब्ध कराना तथा हॉस्पिटल के सभी मानकों को पूरा करना, हमने तो हमारा भवन और वहां पड़े उपकरण उन्हें उपयोग के लिए दे रखे थे- इसलिए हमारी जिम्मेदारी नहीं बनती है यह सब उनकी जिम्मेदारी के अंतर्गत आता है-सुखेर स्थित शर्मा मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल का रजिस्ट्रेशन रद्द

रिपोर्ट : देवेंद्र कुमार टांक E-समाचार.इन (जनता  की  आवाज)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here