घूसखोर पटवारी- 75000 की घूस लेते एसीबी ने रंगे हाथों पकड़ा

0
22

क्राइम रिपोर्ट/ उदयपुर/ ई समाचार मीडिया/ देवेंद्र कुमार टाक : घूसखोरी समाज का एक ऐसा खोकला दर्पण है जो समाज को एवं समाज की प्रगति को पैरों तले रौंद रहा है, घूसखोरी देश की उन्नति एवं देश के पूरे सिस्टम को बर्बाद करने में तुला हुआ है, भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो लगातार ऐसे घूसखोर कर्मचारियों पर लगाम कसे हुए हैं, फिर भी बड़े दुख की बात यह है कि इन पर कोई असर नहीं हो रहा है और आए दिन घूसखोरी के मामले सामने आ रहे हैं-घूसखोर पटवारी- 75000 की घूस लेते एसीबी ने रंगे हाथों पकड़ा

घूसखोर पटवारी- 75000 की घूस लेते एसीबी ने रंगे हाथों पकड़ा

ऐसी ही एक घटना उदयपुर शहर से सटे सीसारमा गांव में सामने आई है, यहां पर पटवारी ने कृषि भूमि पर मकान निर्माण शुरू कराने के बदले सोमवार को 75 हजार रुपए की घूस ले रहे पटवारी सौरभ गर्ग को एसीबी ने रंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया,मामले में तहसीलदार युवराज की भूमिका संदिग्ध मानी जा रही है

ऐसे में ऐसी भी उनकी भी जांच करेगी आरोपी पटवारी अंबामाता ओटीसी स्कीम का रहने वाला है, उसने तहसीलदार युवराज कौशिक के नाम पर पहले परिवादी के मकान का निर्माण रुकवाया, फिर उसे बहाल करने के लिए परिवादी से पहले भी अलग-अलग बार में 2.25 लाख रुपए ले चुका था

एसीबी के एएसपी उमेश ओझा ने बताया कि परिवादी सीसारमा में कृषि भूमि पर मकान बनवा रहा है, पट्टे के लिए यूआईटी में प्रार्थना पत्र भी दे रखा है, लेकिन जारी नहीं हुआ, तहसीलदार ने नोटिस दिया था कि बिना अनुमति निर्माण नहीं कराया जा सकता इसकी पालना में पटवारी सौरभ ने काम रुकवा दिया

इसे वापस शुरू करने के लिए तहसीलदार और अन्य उच्च अधिकारियों के नाम से पटवारी ने 2 लाख रुपए की रिश्वत मांगी और विश्वास दिलाया कि तहसीलदार के नोटिस फाइल करवा दूंगा और काम शुरू हो जाएगा, परिवादी  ने सौरभ को 26 और 28 मई को 2 लाख रुपए दिए इसके बाद भी पटवारी ने 25 हजार रुपए मांगे यह रकम परिवादी ने 5 जून को पटवारी को दे दी

फिर भी पटवारी ने 75 हजार रुपए और मांग लिए, सोमवार को परिवादी सीसारमा पटवार मंडल कार्यालय पहुंचा और पटवारी को 75 हजार रुपए दिए, तभी एसीबी की टीम ने गिरफ्तार कर लिया, टीम में इंस्पेक्टर हरिश्चंद्र, हेड- कांस्टेबल रमेश चंद्र, कांस्टेबल मांगीलाल, टीकाराम, दिनेश कुमार आदि कार्रवाई में शामिल थे

पटवारी की हिम्मत तो देखिए– परिवादी को धमका रहा था घूसखोर पटवारी का कहना था कि ऐसी ऐसीबी  भी मुझे पकड़ नहीं पाएगी, अगर घूस देने में देरी की तो घर पर जेसीबी फिरवा दूंगा,-एसीबी अधिकारियों ने बताया कि  घूसखोर पटवारी सौरभ ने मोबाइल में कई लोगों के नंबर एसीबी के नाम से सेव कर रखे है, वजह पूछी तो बताया कि कार्यालय में कोई रिश्वत की बात करता है तो उसे नंबर दिखा कर डराता था

कई बार फोन भी लगाता था हालांकि वह नंबर उसके परिचित तो कई थे तथा उसकी सोची समझी साजिश का एक हिस्सा ही थे, एसीबी के अधिकारी ने बताया कि पटवारी सौरभ परिवादी से सोशल मीडिया पर कॉल करता था, टीम ने इसका भी रास्ता निकाला और सभी बातें रिकॉर्ड की है, यह अपने आप में ऐसा पहला मामला है जिसमें इस तरह कॉल रिकॉर्ड की गई -घूसखोर पटवारी- 75000 की घूस लेते एसीबी ने रंगे हाथों पकड़ा

रिपोर्ट : देवेंद्र कुमार टांक E-समाचार.इन (जनता  की  आवाज)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here