चीन में लोक डाउन एवं मलेशिया में इमरजेंसी

0
9

एजेंसी/ बीजिंग / चीन : चीन में लोक डाउन एवं मलेशिया में इमरजेंसी- एक और दुनिया के कई देशों में कोरोना वैक्सीनेशन की शुरुआत हो चुकी है, वहीं दूसरी ओर कई देशों में महामारी विकराल रूप धारण करती जा रही हैं इन देशों में चीन भी शामिल है, एक समय महामारी पर काबू पाने का दावा करने वाले चीन ने मंगलवार को करीब 50 लाख की आबादी वाले लैंग्वेज शहर में भी कड़ा लॉकडाउन लगा दिया है

चीन में लोक डाउन एवं मलेशिया में इमरजेंसी

चीन ने हाल ही में हेबेई प्रांत के 1 बड़े शहर में लोगों लगाया था, लहसन के लोगों को 1 सप्ताह के लिए  होम क्वॉरेंटाइन में रहने को कहा गया है जल्द ही यहां के सभी बाशिंदों की कोरोना टेस्टिंग कराई जाएगी, दूसरी और मलेशिया के बादशाह ने कोरोनावायरस को नियंत्रण करने की कोशिश में राष्ट्रव्यापी आपातकाल लगाने की घोषणा कर दी हैं

कि इस कदम से मलेशिया के प्रधानमंत्री मुंह्विद्दीन यासीन की स्थिति और मजबूत होगी विपक्षी दल देश में जल्द चुनाव कराने की मांग कर रहे थे मलेशिया में पिछले सप्ताह रोज आने वाले नए संकरी मतों की संख्या 3000 के पार चली गई थी

कोरोना का नया रूप और भी शख्त चीन व मलेशिया में एमरजेंसी

जर्मनी में 8 से 10 सप्ताह के लिए और बढ़ाया जा सकता है सख्त लॉकडाउन : कोरोना की नई लहर का मुकाबला कर रहे जर्मनी और नीदरलैंड में सतलोक डॉन का दौर बढ़ाया जा सकता है, जर्मनी सरकार के सूत्रों के मुताबिक आठ से 10 सप्ताह के लिए लॉकडाउन और बढ़ाया जा सकता है, नीदरलैंड ने भी जनवरी के बाद भी लोग डॉन जारी रखने के संकेत दिए हैं

जर्मनी का लॉकडाउन 31 जनवरी को समाप्त होने वाला था, परंतु वहां अभी गैर एसेंशियल सर्विस और स्कूलों को बंद रखा गया है वहां कोरोना के कारण रोज 900 से 1000 लोगों की मौत हो रही है, ब्रिटेन से आने वाला नया ट्रेन भी जर्मनी में तेजी से फैल रहा है-चीन में लोक डाउन एवं मलेशिया में इमरजेंसी

कोरोना के नए स्टैंड के कारण ब्रिटेन में इन दिनों लोग लगा हुआ है, लोगों को दिन में एक बार एक्सरसाइज के लिए बाहर निकलने की इजाजत है लेकिन घर से ज्यादा दूर नहीं जाने की सलाह दी गई है, इसके बावजूद प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन मंगलवार को अपने आवाज से 7 मील यानी करीब 11 किलोमीटर दूर साइकिल चलाते देखे गए इससे वहां लोगों में रोष है दूसरी तरफ 8 किलोमीटर दूर साइकिल चलाने पर एक महिला पर 200 पाउंड का जुर्माना लगाया गया था

वैक्सीन आने के बावजूद 2021 में हर्ड इम्यूनिटी संभव नहीं – डब्ल्यूएचओ : विश्व स्वास्थ संगठन ने कहा है कि 2021 में कोरोना हर्ड इम्यूनिटी की संभावना नहीं है, इम्युनिटी व स्थिति है जब किसी बीमारी के प्रति आबादी के बड़े हिस्से में लोगों के अंदर एंटीबॉडी विकसित हो जाए

बीमारी के हिसाब से इस बड़े हिस्से के मायने बदल सकते हैं, हर्ड इम्यूनिटी की स्थिति दो तरीके से प्राप्त होती हैं या तो संक्रमण से या फिर वैक्सीनेशन से, पहले माना जा रहा था कि 60 से 70% लोग या तो संक्रमित हो जाए या उन्हें टीका लग जाए, तो हर्ड इम्यूनिटी आजाएगी, अब कहा जा रहा है कि यह आंकड़ा 85 से 90% हो तभी हर्डइम्यूनिटी आएगी

न्यूज :- देवेंद्र कुमार टांक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here