गोगुंदा पुलिस ने 7 बाल श्रमिकों को तस्करों से मुक्त करवाया

0
51

क्राइम रिपोर्ट/ गोगुंदा/ उदयपुर/ ई समाचार मीडिया/ देवेंद्र कुमार टाक : देश एवं प्रदेश में बाल श्रमिकों की तस्करी के मामले दिन पर दिन बढ़ते जा रहे हैं, इस पर रोक लगाने के लिए पुलिस एवं बाल बाल संरक्षण अधिकारी मुस्तैदी से अपना कार्य कर रहे हैं -गोगुंदा पुलिस ने 7 बाल श्रमिकों को तस्करों से मुक्त करवाया

शनिवार को गोगुंदा थाना क्षेत्र के इसवाल चौकी के पास दो बसों में बाल श्रमिक के रूप में गुजरात जा रहे 7 बच्चों को मुक्त करवाया है, बाल श्रम के रूप में सूरत और राजकोट ले जाना बताया गया है, बच्चों को उदयपुर शेल्टर होम में भिजवा दिया है,वही मौके चकमा देकर से बस से निकल गई

गोगुंदा पुलिस ने 7 बाल श्रमिकों को तस्करों से मुक्त करवाया

आजीविका ब्यूरो की सदस्य सलोनी ने बताया कि गोगुंदा बस स्टैंड से बसों में बाल श्रमिकों को ले जाने की सूचना मिली, इस पर टीम ने उपखंड अधिकारी व पुलिस को सूचित किया, टीम ने बसों का पीछा किया और इस वाल चौकी पुलिस की सहायता से बसों को रुकवाया गया, बसों में साथ छोटे बच्चे बैठे हुए थे

जिन्हें बाल श्रम के लिए सूरत व राजकोट ले जाना पाया गया बच्चों को बसों से रेस्क्यू कर काउंसलिंग की गई, लेकिन तब तक बसों के चालक बसों को लेकर चले गए थे, बच्चों को टीम ने गोगुंदा थाने में सुपुर्द किया, टीम के राजेंद्र शर्मा ने रिपोर्ट दी कि बच्चों को बाल मजदूरी के लिए सूरत, राजकोट ले जा रहे थे

जहां इनका किराया वहां के मालिको व नियुक्तियों से लेना तथा उन्होंने रिपोर्ट में बस संचालकों, नियोक्ताओं व ठेकेदारों के खिलाफ मानव तस्करी बाल तस्करी की धाराओं में कार्रवाई करने की मांग की है, बच्चे हाइट व कद काठी से उम्र में काफी छोटे लग रहे थे

लेकिन काउंसलिंग के बाद बच्चों के अन्य दस्तावेज से बाल श्रमिकों की केटेगरी में पाए गए, बस संचालक कुछ बच्चों को बिना किराए के बिठाकर ले जाए जा रहा था जिसका किराया सूरत और राजकोट स्थित उनके मालिकों से लेना चाहिए था, गोगुंदा थाने के एएसआई गोवर्धन लाल चौबीसा ने बताया कि आजीविका की टीम व पुलिस ने 7 बच्चों को राजगुरु ट्रावेल्स एवं घटेश्वरी ट्रैवेल्स करवाया है

गोगुंदा के ओगणा व  रावमादडा गांव से सूरत व राजकोट बाल मजदूरी के लिए ले जाया जा रहा था, इस वालों में बसों से बाल श्रमिकों को मुक्त करवाकर थाने लाए, पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर 7 बच्चों को उदयपुर के गोवर्धन विलास थाना क्षेत्र के तितड़ी स्थित बाल सेंटर होम में भिजवा दिया है-गोगुंदा पुलिस ने 7 बाल श्रमिकों को तस्करों से मुक्त करवाया

उदयपुर जिले में अनलॉक होते ही फिर से बढ़ने लगी आपराधिक गतिविधियां है :

लॉकडाउन के दरमियान लोगों के घरों में रहने के कारण अपराध के आंकड़ों में गिरावट आई थी, लेकिन जैसे ही अनलॉक हो हुआ इसके साथ ही फिर अपराध का ग्राफ बढ़ने लग गया है, धरा 110 जा. फौ. में संभाग के थानों सूरजपोल, भूपालपुरा, प्रतापनगर, हिरणमगरी, अंबामाता, हाथीपोल, 

घंटाघर, धान मंडी, गोवर्धन विलास, कुराबड, गोगुंदा, ओगणा, पानरवा, फलासिया, कोटडा, मांडवा, डबोक, वल्लभनगर, मावली, फतहनगर, खेरोदा, भिंडर, कानोड़, लसाडिया, जलारा, सलूंबर, सराडा, जावर माइंस, ऋषभदेव, खेरवाड़ा, पहाड़ा, सेमारी, बावलवाड़ा, घांसा,टीडी, परसाद एवं गिंगला की ओर से 384 कार्रवाई की गई है

60 पुलिस एक्ट/510 भादस में थाना सूरजपोल, भोपालपुरा, प्रताप नगर, हिरण मगरी, हाथी पोल, घंटाघर, धान मंडी, मांडवा, फतहनगर, खेरोदा, कानोड़, सलूंबर, ऋषभदेव व परसाद की ओर से 141 कार्रवाई की गई है

थानों द्वारा की गई कार्रवाई  कुछ झलकियां :

1. विशेष अधिनियम के तहत चल रहे अभियान के तहत आर्म्स एक्ट में थाना प्रतापनगर, हाथीपोल, परसाद, ऋषभदेव एवं घांसा में कुल 6 प्रकरण दर्ज हुए हैं

2. अवैध शराब बिक्री के विरुद्ध थाना सवीना,अंबा माता, गोवर्धन विलास, सुखेर, बेकरिया, झाडोल, सलूंबर बावलवाड़ा  में 8 प्रकरण दर्ज हुए हैं 

3. जुआरियों के विरुद्ध थाना सूरजपोल, प्रताप नगर, सवीना,अंबा माता, मावली, कानोड़ एवं खेरवाड़ा में कुल 13 प्रकरण दर्ज हुए हैं

4. अवैध मादक पदार्थ अधिनियम के तहत भूपालपुरा व कुराबड थानों में दो जगह पर कार्रवाई की गई है

5.  मत्स्य अधिनियम में थाना पहाड़ा व सराडा की ओर से दो जगह पर कार्रवाई की गई है

रिपोर्ट : देवेंद्र कुमार टांक E-समाचार.इन (जनता  की  आवाज)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here