पोते ने दादी को उतारा मौत के घाट

0
29
अपने पौते ने ही लेली दादी की जान

छोटीसादड़ी / उदयपुर :  पोते ने दादी को उतारा मौत के घाट – पत्नी के इलाज के लिए चाय थे रुपए पोते ने दादी को उतारा मौत के घाट – उपखंड क्षेत्र के हड़मतिया ग्राम पंचायत के हमीरपुर चौकी गांव में बुधवार रात घर में सो रही है कुरूदा की गहनों के लिए निर्मल हत्या का शनिवार को खुलासा कर वृद्धा की हत्या करने वाले हत्या के आरोपी को गिरफ्तार कर उसके पास से गहने भी बरामद कर लिए हैं

वृद्धा की हत्या करने वाला और कोई नहीं बल्कि मृतक का का पोता ही निकला सी आई रविंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि 15 अक्टूबर को जलोदा जागीर पुलिस चौकी से सूचना मिली कि हमीरपुर चौकी में एक वृद्धा की हत्या हो गई है

जहां पर थाना अधिकारी व पुलिस जाब्ता घटनास्थल पर पहुंचा पुलिस ने घटनास्थल का परीक्षण किया जहां रामचंद्र पुत्र सुख लाल दत्तक पुत्र भेरा मीणा ने एक लिखित रिपोर्ट देकर बताया कि मेरा पुत्र दिला मीणा उनके कोई संतान नहीं होने से रामचंद्र को गोद रखा जिनकी जमीन जायदाद  और सारा कार्य वही देखता है

रामचंद्र की गोद वाली माता फूली बाई पति भेरा मीणा उम्र 80 वर्ष जो बेरा के मकान में अलग ही रहती थी एवं सहायक का खाना भी अलग ही बनाती थी बुधवार रात को भी वृद्धा बोली भाई उनके मकान में सोई हुई थी गुरुवार सुबह करीब 2:00 से 11:00 बजे तक मुर्दा घर से बाहर नहीं निकलने पर रामचंद्र की पुत्री दुर्गा ने जाकर  वृद्धा को देखा तो वह मरी हुई पड़ी थी और पैरों में पहनी चाँदी की कड़ियां नहीं थी

अज्ञात बदमाशों द्वारा रात्रि के समय मकान में प्रवेश कर गया निकाली वह गर्दन के ऊपर भी गला दबाने के निशान अगर गला घोट कर हत्या कर दी है जिनके  पाव  व गर्दन के ऊपर निशान है 

पुलिस ने मृतका का छोटी सादड़ी चिकित्सालय की मोर्चरी में ले जाकर पोस्टमार्टम करवा कर परिजनों के सुपुर्द कर हत्या का मामला दर्ज कर मामले की जांच शुरू की प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए पुलिस अधीक्षक चुनाराम जाट – पोते ने दादी को उतारा मौत के घाट

अति पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार मीणा के सुपरविजन में पुलिस उप अधीक्षक पर्वत सिंह जोधावत के निर्देशन में एशियाई रविंद्र प्रताप सिंह ने बलवंत सिंह भंवर सिंह हरीराम जय सिंह जोगाराम महिपाल सिंह सुरेंद्र चंद्र शैतान सिंह मान सिंह देवेंद्र सिंह की टीम गठित कर अनुसंधान प्रारंभ किया

पूछताछ में रामचंद्र से उसके लड़के  प्रेमचंद के बारे में  पूछा तो उसने बताया कि प्रेमचंद घटना के दिन घर पर था पोस्टमार्टम कराने के बाद में वापस घर पर नहीं आया तथा फुल्ली बाई के अंतिम संस्कार करने भी नहीं आया उनका फोन भी बंद आ रहा है उसका कोई पता नहीं चल रहा है इस पर पुलिस को प्रेम सिंह संदीप प्रतीत होने पर पुलिस टीम ने प्रेमचंद मीणा की तलाश शुरू कर के पोते प्रेम चंद्र मीणा को जलोदा जागीर से डिटेन कर पूछताछ की

पत्नी के इलाज के लिए रुपया के लिए दादी को उतारा मौत के घाट :  पूछताछ में प्रेम चंद्र पुत्र रामचंद्र मीणा उम्र 25 ने घटना के संबंध में पूछताछ करने पर प्रेमचंद्र ने बताया कि तीन-चार माह से मैं घर पर ही था तथा छोटी मोटी मजदूरी करता था मेरी पत्नी सीमा की तबीयत अक्सर खराब रहती थी

जिसके अभी निंबाड़ा से इलाज चल रहा था मेरे पास रुपए नहीं थे तो मैंने 2 दिन बाद मेरी दादी फूली बाई से पत्नी के इलाज के लिए पैसे मांगे तो उन्होंने रुपए देने से मना कर दिया आरोपी ने बताया कि दादी हम लोगों को पैसा नहीं देखा दूसरे लोगों को पैसा देती थी पत्नी की तबीयत खराब होने पर दादी से इलाज के लिए पैसे मांगा तो उसने मुझे पैसा नहीं देकर दूसरों को पैसा दे दिया जिसे प्रेमचंद आकर्षित होकर आ गया था 

14 अक्टूबर की रात को मुझे नींद नहीं आ रही थी पैसा नहीं होने से दिमाग खराब हो रहा था रात को 1:00 बज गई थी प्रेमचंद के सामने खुली भाई के कमरे में गया कमरे का दरवाजा खुला था प्रेमचंद कमरे में गया तो थी जिसे उसने कुछ देर पहले उसके बाद वह मर गई थी

लोहे के धारिये उसके पैरों की चाँदी की 2 कड़ी निकाली उसके बाद में दोनों कड़ियां लोहे की रॉड लेकर दरवाज़ा बंद कर वापस घर आ गया पुलिस ने तस्दीक कर अभियुक्त के रहवासी मकान से मृतक की दो चांदी की कड़ियां घटना में प्रयुक्त की गई है पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया जिसे न्यायालय ने जैसी किया

पुलिस ने बताया की प्रेमचंद द्वारा अपनी पत्नी के इलाज के लिए अपनी दादी की कुर्बानी देकर गंभीर अपराध किया गया है जिसके खिलाफ न्यायालय में आरोप पत्र पेश कर आरोपी को सजा दी जाएगी

ऐसा गौर अपराध कर के पोते ने पोते – दादी के रिश्ते को व और मानवता को तार-तार कर दिया और अपने साथ अपनी बीवी अपनी दादी और अपने पूरे परिवार की जिंदगी को तबाह दिया

देवेंद्र कुमार टांक
एडिटर एन्ड डायरेक्टर E समाचार.इन , उदयपुर (राज.)
(डिजिटल मीडिया चैंनल)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here