लॉकडाउन की वजह से होटल इंडस्ट्री को हर दिन हो रहा करोड़ों का नुकसान

0
18

सिटी रिपोर्ट/ उदयपुर/ ई समाचार मीडिया/ देवेंद्र कुमार टाक : लेकसिटी अपनी आलीशान होटलों व शाही मेहमान नवाजी के लिए दुनिया भर में मशहूर है, मेवाड़ अपनी परंपरा अतिथि देवो भव के लिए जाना जाता है, मेवाड़ में शौर्य एवं वीर की गाथाओं के दरबार सजा पड़े हैं, यहां पर देश-विदेश से करोड़ों लोग घूमने फिरने आते हैं-लॉकडाउन की वजह से होटल इंडस्ट्री को हर दिन हो रहा करोड़ों का नुकसान

लॉकडाउन की वजह से होटल इंडस्ट्री को हर दिन हो रहा करोड़ों का नुकसान

लेकिन इन दिनों हालात यह है कि यह होटल मेहमानों को तरस गए हैं कोरोना महामारी की दूसरी लहर के कारण होटल उद्योग को भी जबरदस्त झटका लगा है हर दिन होटल व्यवसाय को करोड़ों का नुकसान झेलना पड़ रहा है, कोरोना के बढ़ते खौफ, जन अनुशासन पखवाड़े (लॉकडाउन), वीकेंड कर्फ्यू के चलते इस महीने विभिन्न होटलों में होने वाली अधिकतम शादियां रद्द हो चुकी है-लॉकडाउन की वजह से होटल इंडस्ट्री को हर दिन हो रहा करोड़ों का नुकसान

इसके साथ ही मई में होने वाली शादियों का भी कोई भरोसा नहीं है, जबकि सबसे अधिक मुहूर्त मई माह में ही है, ऐसे में सरकार की नई गाइडलाइन के रहते शादी में सिर्फ 31 मेहमान ही बुला सकते हैं एवं यह शादी सिर्फ 3 घंटे में ही करनी होती हैं, तो ऐसे में होटलों में शादी के लिए कौन आएगा, इसलिए होटलों मैं मई और जून महीने के लिए शादियों की बुकिंग नहीं हो रही है, और जो बुकिंग पहले से हो रखी है वह भी कैंसिल हो रही है

भगवान दास वैष्णव, अध्यक्षहोटल एसोसिएशन उदयपुर : उदयपुर में छोटे बड़े सभी होटल आज बंद है शादियों की बुकिंग भी कैंसिल हो चुकी है इससे होटल इंडस्ट्री को बहुत नुकसान पहुंचा है, इससे हजारों लोग जुड़े हैं सभी के ऊपर आर्थिक संकट हैं, पिछले साल के लॉकडाउन के रहते अभी तक होटल कर्मी एवं इससे जुड़े कर्मचारी अभी तक उधर ही नहीं पाए हैं और यह दूसरा लॉकडाउन यानी दूसरा साल भी बर्बाद हो चुका है-  ऐसे में  ऐसी भयंकर स्थिति से एवं इस नुकसान से उबरने में बहुत समय लगेगा

राकेश चौधरी, सचिव होटल संस्थान दक्षिणी राजस्थान : जबसे कोरोना महामारी का दौर शुरू हुआ है सबसे ज्यादा प्रभाव होटल इंडस्ट्रीज पर ही पड़ा है, गत वर्ष की तुलना इस वर्ष कोरोना की दूसरी लहर आई है उसेसे होटल व्यवसाय बिल्कुल ठप पड़ गया है, लगभग सभी शादियों की तारीख आगे बढ़ गई है या फिर कैंसिल कर दी गई है, जिससे होटल व्यवसाय को प्रतिदिन करोड़ों रुपए का नुकसान हो रहा है, ऐसे में सरकार को होटल व्यवसाय को सहारा देने के लिए आगे आना चाहिए और संभवत मदद करनी चाहिए

देवेंद्र कुमार टांक  E-समाचार.इन (जनता की आवाज)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here