कलक्टर ने किया नशा मुक्ति जागरूकता पोस्टर का विमोचन

0
32

उदयपुर 26 जून। आजादी के अमृत महोत्सव के अंतर्गत अंतर्राष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस पर भारत सरकार द्वारा चलाए जा रहे ‘नया भारत नशा मुक्त भारत अभियान’ के तहत सामाजिक न्याय व अधिकारिता विभाग व आरोग्य सेवा संस्थान संयुक्त तत्वावधान में जिला कलक्टर ताराचंद मीणा व अतिरिक्त जिला कलक्टर प्रभा गौतम द्वारा नशा मुक्ति जागरूकता पोस्टर का विमोचन किया गया-कलक्टर ने किया नशा मुक्ति जागरूकता पोस्टर का विमोचन

कलक्टर ने किया नशा मुक्ति जागरूकता पोस्टर का विमोचन

इस अवसर पर जिला कलक्टर ने संस्थान द्वारा किया गए कार्य की सरहाना करते हुए नशे के दुष्परिणामों के बारे मे बताया। उन्होंने उदयपुर शहरवासियों से इस अभियान मे बढ़चढ़ कर भाग लेने की अपील की. उन्होंने नशा मुक्ति जारूकता पोस्टर पर हस्ताक्षर कर इस अभियान को आगाज किया।  

समारोह दौरान संस्थान अध्यक्ष नरपत सिंह चौहान ने बताया कि नशा हमारे समाज को दीमक की तरह खोखला करता जा रहा है। युवा पीढ़ी नशे की गिरफत मे आती जा रही है व भारत देश के लिए अत्यंत ही नुकसान दायक है। चौहान ने बताया कि नशा मुक्ति जागरूकता पोस्टर को विद्यालय, पुलिस स्टेशन,सरकारी ऑफिस व अस्पतालों मे वितरित किया जाएगा ताकि लोग उन्हें पढ़ सके व नशा ना करने के प्रति जागरूक हो सके और दूसरों को भी जागरूक कर सके।

सामाजिक न्याय व अधिकारिता विभाग के अधिकारी हेमंत खटीक व सामाजिक सुरक्षा अधिकारी हर्षित पंचोली ने नशा मुक्ति जागरूकता पोस्टर विमोचन के अवसर पर संस्थान द्वारा किया जा रहे कार्यो पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में डॉ सुरेश डांगी, अर्चना चारण, बाल कल्याण समिति अध्यक्ष ध्रुव कुमार कविया, आरोग्य सेवा संस्थान के सदस्य सुनील पंचोली, रुद्रप्रताप सिंह, सुमेर पूरी, नारायण सिंह व न्यू विज़न सेवा संस्थान के अध्यक्ष हर्षित चोरडिया आदि उपस्थित रहे।

स्काउट गाइड संगठन बालक-बालिकाओं में संस्कार का बीजारोपण करता है – मण्डल स्तरीय 40 दिवसीय अभिरूचि एवं कौशल विकास प्रशिक्षण शिविर सम्पन्न
उदयपुर 26 जून। राजस्थान राज्य भारत स्काउट व गाइड मण्डल मुख्यालय उदयपुर के तत्वावधान में आयोजित ग्रीष्मकालीन कौशल विकास एवं अभिरूचि शिविर का समापन समारोह जिला कलक्टर ताराचन्द मीणा के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुआ।
जिला संगठन आयुक्त स्काउट सुरेन्द्र कुमार पाण्डे ने बताया कि इस अवसर पर जिला कलक्टर ताराचन्द मीणा मुख्य अतिथि रहे एवं अध्यक्षता पूर्व जिला शिक्षा अधिकारी ओमप्रकाश आमेटा ने की. इसी प्रकार विशिष्ट अतिथि के तौर पर डीवाईएसपी चेतना भाटी, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी पुष्पेंद्र शर्मा, सहायक राज्य संगठन आयुक्त स्काउट दामोदर प्रसाद शर्मा, जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक वीरेन्द्र यादव, ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह राणावत, हैप्पी होम संस्थान के जगदीश अरोड़ा, चैयरमैन रोटरी क्लब वसुधा डॉं. सुषमा अरोडा, अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी पूनम सक्सेना, उप जिला शिक्षा अधिकारी विजय सारस्वत आदि मौजूद रहे।

प्रदर्शनी का उद्घाटन व अवलोकन किया :
मुख्य अतिथि जिला कलक्टर ताराचंद मीणा ने 40 दिवसीय शिविर अवधि में कुशल और दक्ष प्रशिक्षकों की देखरेख में सीखे गये काम काजों से विषयों के आधार पर तैयार सामग्री की तीन प्रदर्शनी का फीता काटकर उद्घाटन किया और सामग्री का अवलोकन किया।

सहायक राज्य संगठन आयुक्त स्काउट दामोदर प्रसाद शर्मा ने कहा कि स्काउटिंग के कला कौशल शिविर बालक, बालिकाओं, कामकाजी महिलाओं एवं जरूरतमंदों को आत्मनिर्भर बनाने में सहयोग प्रदान करते है। इन शिविरों के माध्यम से बालक-बालिकाओं में स्वावलंबन और स्वाभिमान की भावना आती है। किशनलाल सालवी ने 40 दिवसीय शिविर प्रतिवेदन और उपलब्धियों की जानकारी दी-कलक्टर ने किया नशा मुक्ति जागरूकता पोस्टर का विमोचन

स्काउट से सीखते हैं जीवन जीने की कला
कलक्टर मीणा ने स्काउट गाइड को बालक-बालिकाओं, युवक, युवतियों एवं युवा शक्ति में संस्कार का बीजारोपण कर जीवन जीने की कला सिखाने की पाठशाला बताया। उन्होंने कहा कि जो कुछ इस शिविर में सिखाया गया है, उसे जीवन में उतारें एवं आत्मनिर्भर बनें। स्वास्थ्य, सेवा ओर कौशल और स्वास्थ्य के लिऐ स्काउट गाइड संगठन के हर आयुवर्ग के कार्यकर्ता सदैव तैयार पाये जाते है। उन्होनें कहा कि जितना पढ़ना लिखना जरूरी है उतना ही खेलना-कूदना भी जरूरी है।

बालिका आत्मरक्षा प्रशिक्षण से मिला संबल
चेतना भाटी डीवाईएसपी के प्रभावी मार्गदर्शन में राजस्थान पुलिस की महिला कांस्टेबल और लेडी पेट्रोलिंग टीम सदस्य मिनाक्षी गरासिया और भावना मेघवाल द्वारा बालिकाओं को दिये गये 7 दिवसीय बालिका आत्मरक्षा प्रशिक्षण के प्रदर्शन ने सहभागियों सहित अभिभावकों, दर्शकों को अभिभूत कर दिया। इस अवसर  पर 150 छात्र-छात्राओं को आत्म रक्षा प्रशिक्षण का प्रमाण पत्र प्रदान किया।  इस दौरान मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी पुष्पेन्द्र शर्मा, जगदीश अरोडा, डॉ.सुषमा अरोड़ा, जिला संगठन आयुक्त गाइड विजय लक्ष्मी वर्मा ने भी संबोधित किया।

कलक्टर के निर्देश पर मानसिक विक्षिप्त महिला को पहुँचाया आश्रम
उदयपुर 26 जून। शहर में एक मानसिक रूप से विक्षिप्त महिला के दर-दर भटकने की सूचना एक समाचार पत्र के माध्यम से मिलने के बाद जिला कलक्टर ताराचंद मीणा के निर्देश पर उसे तत्काल आशा धाम आश्रम में प्रवेश दिलवाया गया।
कलक्टर के निर्देशों पर सक्रिय हुए तारा सेवा संस्थान, सीडब्ल्यूसी अध्यक्ष ध्रुव कुमार कविया, पुलिस विभाग, महिला अधिकारिता विभाग ने संयुक्त रूप से कार्यवाही करते हुए महिला को आशा धाम आश्रम में प्रवेश दिलवाया गया। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के उप निदेशक मानधाता सिंह ने बताया कि सुखेर थाना इलाके के बेदला माता मंदिर के पास घूम रही मानसिक रूप से विक्षिप्त महिला के गर्भवती होने की सूचना पर जिला कलक्टर मीणा के निर्देशों पर महिला को आश्रम में पहुंचाया गया और उसकी समुचित देखभाल हेतु निर्देशित किया। फ़िलहाल महिला का स्वास्थ्य परीक्षण करवाया जा रहा है एवं आश्रम में उसकी देखभाल की जा रही है। महिला को शीघ्र ही भरतपुर स्थित अपना घर आश्रम में भिजवाया जाना प्रस्तावित है।

भू-स्थानिक तकनीकों पर राष्ट्रीय प्रशिक्षण का हुआ समापन -विकास परियोजनाओं में भूस्थानिक प्रौद्योगिकी की अहम भूमिका- डॉ. आचार्य
उदयपुर, 26 जून। भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के समूह निदेशक डॉ. पी.एस. आचार्य ने कहा है कि जिला, ब्लॉक एवं पंचायत स्तरीय विकास परियोजनाओं एवं इनकी क्रियान्विति में भूस्थानिकी प्रौद्योगिकी की महत्वपूर्ण भूमिका है।
डॉ. आचार्य रविवार को मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय के भूगोल विभाग तथा विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार के तत्वावधान में भू-स्थानिक तकनीकों पर 21 दिवसीय राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर के समापन समारोह में प्रतिभागियों को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने वर्तमान प्रसंगों में भू-स्थानिकी प्रौद्योगिकी के उपयोग और इसके माध्यम से हो रही सुविधाओं के बारे में विस्तार से जानकारी दी और कहा कि इनके लोकहित में उपयोग के माध्यम से कई महत्त्वपूर्ण विकास परियोजनाओं को मूर्त रूप दिया जा सकता है बशर्ते इसका बेहतर उपयोग किया जाए।  उन्होंने भारत की नई जियोस्पेशियल पॉलिसी व पोषणीय विकास हेतु भूस्थानिक प्रौद्योगिकी के बारे में संभागियों को विस्तार से बताया।

समापन समारोह में अपने संबोधन में इसरो हैदराबाद के समूह निदेशक एवं वैज्ञानिक डॉ. के.एम. रेड्डी ने भारत सरकार द्वारा शैक्षणिक संस्थाओं में भूस्थानिकी प्रौद्योगिकी के विस्तार संबंधित विभिन्न कार्यक्रमों पर प्रकाश डाला। उन्होंने सरकारी तकनीकी कर्मचारियों एवं शिक्षकों को प्रशिक्षित करने के लिए जमीनी स्तर पर प्राकृतिक संसाधनों के बेहतर प्रबंधन, नियोजन एवं विकास के उद्देश्य से भूस्थानिक तकनीकों के प्रयोग और इनको सुदृढ़ करने की मंशाओं को उजागर किया। भारतीय दूर संवेदन संस्थान देहरादून के वैज्ञानिक बी.एस. सौखी ने वानिकी, नगरीय विकास, वैश्विक उष्णन एवं जलवायु परिवर्तन जैसे क्षेत्र में दूर संवेदन प्रौद्योगिकी के प्रयोग पर जोर दिया। डॉ डी एस चौहान ने स्वागत उद्बोधन किया एवं आभार प्रदर्शन डॉ उर्मि शर्मा ने किया।

6 राज्यों के 20 संभागियों ने लिया हिस्सा
कार्यक्रम की संयोजिका एवं भूगोल विभाग की अध्यक्षा प्रो. सीमा जालान ने कार्यशाला का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया और बताया कि विभाग द्वारा तीसरी बार आयोजित की गई इस कार्यशाला में भारत के 6 राज्यों से 20 प्रतिभागियों ने भाग लिया और जीआईएस व जीपीएस तकनीकों पर गहन मंथन किया। प्रो. जालान ने बताया कि कार्यशाला में विषय विशेषज्ञों ने सुदूर संवेदन, भौगोलिक सूचना तंत्र (जी.आई.एस.), जी.पी.एस. तकनीकी एवं उनके विभिन्न अनुप्रयोगों पर गहन प्रशिक्षण दिया तथा इन तकनीकों का उपयोग कर ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर क्वांटम जी.आई.एस. एवं सागा में विश्लेषण करना सिखाया।

 देश के वरिष्ठ वैज्ञानिकों ने दिया प्रशिक्षण :
कार्यक्रम की संयोजिका एवं भूगोल विभाग की अध्यक्षा प्रो. सीमा जालान ने बताया कि भारत के पूर्व सर्वेयर जनरल एवं राष्ट्रीय एटलस एवं विषयक मानचित्रण संस्थान के पूर्व निदेशक डॉ. पृथ्वीश नाग, इसरो के पश्चिमी केन्द्र जोधपुर के महाप्रबन्धक डॉ. ए.के. बैरा, इसरो के देहरादून स्थित भारतीय सुदूर संवेदन केन्द्र के फोटोग्रामिती एवं सुदूर संवेदन विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. अनिल कुमार, जियोइर्न्फामेटिक्स विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. समीर सरन, फॉरेस्ट्री एवं इकॉलोजी विभाग के विभागाध्यक्ष डॉ. हितेन्द्र पडालिया, मध्यप्रदेश स्टेट इंजीनियरिंग डेटा सेंटर के फोटोग्रामेट्री विभाग के प्रबंधक अनूप कुमार पटेल, स्पेस एप्लीकेशन सेंटर अहमदाबाद के वेदास अनुसंधान समूह के निदेशक, जोधपुर पश्चिमी केन्द्र के हेड एप्लीकेशन्स डॉ.डी.गिरीबाबू आदि वरिष्ठ वैज्ञानिकों ने हिस्सा लिया और विशिष्ट जानकारियों से संभागियों को लाभान्वित किया।


नशा मुक्ति विषय पर चित्रकला प्रतियोगिता संपन्न
उदयपुर 26 जून। अंतर्राष्ट्रीय नशा निरोधक दिवस के उपलक्ष में राजकीय किशोर एवं सम्प्रेषण गृह में चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। यहां निवास कर रहे बालकों द्वारा नशामुक्ति विषय पर चित्र बना कर नशा मुक्ति का सन्देश दिया गया। इसमें आरोग्य सेवा संस्थान द्वारा प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान पर आने वाले बालकों को पुरस्कृत कर प्रोत्साहित किया गया।
समाज कल्याण अधिकारी हेमंत खटीक द्वारा बालकों को नशा न करने की शपथ दिलाई गई व नशे से होने वाले दुष्परिणामों से अवगत कराया गया।

बाल कल्याण समिति अध्यक्ष ध्रुव कुमार कविया ने अपने विचार व्यक्त करते हुए बताया कि बच्चे इन दिनों जल्दी नशे की लत के चलते आपराधिक मामलो मे लिप्त हो रहे हैं जो चिंताजनक है। इस अवसर पर राजकीय किशोर एवं सम्प्रेक्षण गृह के पिंटू डांगी, बालमुकंद वैष्णव, बबलू रावत, शांति लाल व संस्थान अध्यक्ष नरपत सिंह चौहान, संस्थान सदस्य सुनील पंचोली, रुद्रप्रताप सिंह, सुमेर आदि उपस्थित रहे-कलक्टर ने किया नशा मुक्ति जागरूकता पोस्टर का विमोचन

रिपोर्ट : देवेंद्र कुमार टांक   E–समाचार.इन (जनता  की  आवाज)

INDIAN GOVERNMNET REGISTERED  (RNI -MPHIN /2020 /35645 )

कृपया सभी जन मास्क लगाए।  सोशल दुरी रखे।  बार – बार अपने हाथों को साबुन या सेनेटाइजर साफ़ करिये। भीड़ –भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचिए। अपना और अपने परिवार वालों का  ख्याल रखिये।  स्वस्थ्य रहिये –सुरक्षित रहिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here