जुलाई में 15 सावे- सरकार को वेडिंग इंडस्ट्री को देनी होगी पाबंदियों में छूट

0
24

सिटी रिपोर्ट/ उदयपुर/ ई समाचार मीडिया/ देवेंद्र कुमार टाक : कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर कम होने के बाद टुकड़ों टुकड़ों में दो बार मिली छूट से जहां बाजारों में धीरे-धीरे रौनक लौट रही है, वहीं शहर की वेडिंग इंडस्ट्री को अभी छूट के मुहूर्त का इंतजार है, वेडिंग इंडस्ट्री का 1 साल का करीब 1000 करोड़ का कारोबार प्रभावित हुआ है और सिर्फ 2 माह के लोग दोनों में बी 350 करोड़ का नुकसान हो चुका है-जुलाई में 15 सावे- सरकार को वेडिंग इंडस्ट्री को देनी होगी पाबंदियों में छूट

यह लगातार दूसरा वर्ष है जिससे वेडिंग इंडस्ट्री को बहुत बड़ी निराशा हाथ लगी है,क्योंकि पिछले साल भी कोरोना संक्रमण को लेकर पूरे देश में लॉकडाउन था और जब सरकार ने 8 जून से होटल इंडस्ट्री एवं वेडिंग इंडस्ट्री को सिर्फ 50 मेहमानों के साथ विवाह समारोह करने की छूट दी थी, लॉकडाउन के कारण कई सारी बुकिंग तो पहले से ही रद्द हो गई थी

और जब अनलॉक हुआ और सरकार ने 50 मेहमानों के साथ विवाह समारोह करवाने की छूट दी, तो छोटे पैमाने पर लोगों ने अपने घरों में ही विवाह समारोह कर ली है, जिससे वेडिंग इंडस्ट्री को करोड़ों रुपए का नुकसान झेलना पड़ा, इस इंडस्ट्री से लाखों लोगों की आजीविका चलती है वह सभी लोग बेरोजगारी के शिकार हुए हैं

इस साल भी 1 जनवरी से 16 अप्रैल तक दो ही बड़े सावे थे, दोनों में 350 शादियां हुई 17 अप्रैल को लॉकडाउन की पाबंदियां लग गई, इस दौरान 22 सालों में 1000 शादियां होनी थी, सभी की बुकिंग कैंसिल हुई, लोगों ने घरों में चंद शादियां करवाई, अब सरकार ने लॉकडाउन में छूट दी हैं, परंतु वेडिंग इंडस्ट्री को छूट नहीं दी है और जून व जुलाई के महीने में शादियों के 15 मुहूर्त हैं, जिनमें लगभग 350 शादियां होनी है

लेकिन वेडिंग इंडस्ट्री को छूट नहीं होने से इनकी बुकिंग पर ग्रहण का खतरा मंडरा रहा है, ऐसे में लोग गुजरात की ओर रुख कर रहे हैं, अगर सरकार ने 1 जुलाई से राज्य में वेडिंग इंडस्ट्री को विवाह समारोह करने की छूट नहीं दी तो लोग दूसरे राज्य जैसे गुजरात की ओर जाकर विवाह समारोह करेंगे, जिससे उदयपुर की वेडिंग इंडस्ट्री को ₹35 करोड़ का और नुकसान हो सकता है,

20 जुलाई को देवशयनी एकादशी हैं इसके बाद 14 नवंबर ( करीब 4 महीने) तक विवाह के शुभ मुहूर्त नहीं है यानी 1 महीने बाद छूट मिल जाएगी तो कोई फायदा नहीं होगा और वेडिंग इंडस्ट्री पतन की ओर अग्रसर होगी और लाखों लोगों का रोजगार छिन जाएगा एवं लोग दो वक्त की रोटी की व्यवस्था करने के लिए इधर-उधर भटकते फिरेंगे, स्थिति बहुत ही गंभीर हो सकती हैं इसलिए सरकार एवं उदयपुर जिला प्रशासन से से निवेदन है कि 1 जुलाई से वेडिंग इंडस्ट्री को विवाह समारोह करने की छूट दी जाए

उदयपुर में हर साल विवाह समारोह से 1000 करोड़ रुपए का कारोबार होता हैलॉकडाउन की वजह से  5 महीने में यह कारोबार 350 करोड़ हो गया, आइए नजर डालते हैं कुछ आंकड़ों पर :

1 जनवरी से 16 अप्रैल 2021 : 15 जनवरी से 12 फरवरी तक गुरु अस्त थे, इसके बाद 17 फरवरी से 19 अप्रैल तक शुक्र अस्त थे, इसके चलते विवाह के सिर्फ दो बड़े मुहूर्त थे 16 फरवरी को बसंत पंचमी और 15 मार्च को फुलेरा दोज- इस मुहूर्त में 300 शादियां हुई वसंत पंचमी और फुलेरा दूज पर इस दौरान 30 करोड का कारोबार हुआ था

इसके बाद कोरोना की दूसरी लहर में सबसे पहले उदयपुर में सख़्तिया बढ़ा दी गई, शादी में मेहमानों की संख्या पहले तो प्रशासन ने 100 तक की, फिर 50, फिर 31 और बाद में तो सिर्फ 11 मेहमान तक की अनुमति दी गई और इसमें भी बैंड, बाजा, बारात, घोड़ी, ढोल, कैटरिंग, हलवाई आदि सभी की व्यवस्था पर रोक लगा दी

17 अप्रैल से 8 जून 2021 : 17 से 30 अप्रैल तक-5, मई में 15 जून में दोस्त सहित कुल 22 शादी के मुहूर्त थे, लेकिन किसी भी दिन शादी समारोह नहीं हुआ, शहर में 1000 शादी बुक थी, सभी की सभी बुकिंग रद्द हो गई, इस रद्द हुई बुकिंग से कुल 350 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ

पिछले साल अप्रैल से जुलाई तक (2019) : 400 करोड़ का कारोबार हुआ था- कोरोना के चलते मार्च 2020 में वेडिंग इंडस्ट्री का कारोबार प्रभावित हुआ था, लेकिन 2019 में अप्रैल से जुलाई के बीच 400 करोड़ का कारोबार हुआ था,उदयपुर में हर साल वेडिंग का 1000 करोड़ रुपए का कारोबार होता है,जिससे कई लोगों की आजीविका चलती है

अगले 39 दिनों में 15 सावे, शहर में 350 शादियों की बुकिंग, परंतु पाबंदी का खतरा : इस साल जून माह में 17,18,19,20,22,24,26 ,28,30 और जुलाई माह में 1,3,7,15 ,18 को शादियों के लिए शुभ मुहूर्त है इस दौरान जून में 200 और जुलाई में 150 शादियां हैं, सरकार ने 100 में मानों को अनुमति दी तो लगभग 35 करोड़ का कारोबार होने की संभावना है- और सरकार को वेडिंग इंडस्ट्री के बारे में सोचते हुए सौम्य मानो तक विवाह समारोह करने की अनुमति देनी चाहिए

जुलाई में 15 सावे- सरकार को वेडिंग इंडस्ट्री को देनी होगी पाबंदियों में छूट

वेडिंग इंडस्ट्री का प्रभारी मंत्री खाचरियावास से निवेदन : जिला टेंट व्यवसाई समिति के अध्यक्ष सुधीर चावत ने बताया कि उदयपुर वेडिंग हब हैं, इसमें छूट देने के लिए पिछले दिनों उदयपुर आए प्रभारी मंत्री प्रतापसिंह खाचरियावास को ज्ञापन देकर विवाह समारोह में मेहमान की संख्या शो करने तक का निवेदन किया है-जुलाई में 15 सावे- सरकार को वेडिंग इंडस्ट्री को देनी होगी पाबंदियों में छूट

ताकि नवंबर तक इंतजार न करना पड़े ज्ञापन में कहा गया है कि आरटी पीसीआर नेगेटिव रिपोर्ट के साथ मेहमानों को विवाह समारोह में सम्मिलित होने की अनुमति दी जाए, दोनों दोस्त लगा चुके मेहमानों के ही प्रवेश दिए जाने का प्रस्ताव भी दे चुके हैं, एसोसिएशन का कहना है कि समारोह पर प्रतिबंध होने से कई शादियां गुजरात के आसपास के रिसोर्ट में शिफ्ट हो रही है, प्रभारी मंत्री ने सीएम से बात करने का आश्वासन भी दिया है- अब आगे देखना यह है कि सरकार वेडिंग इंडस्ट्री के निवेदन को ध्यान में रखते हुए 1 जुलाई से विवाह समारोह में छूट देती है या नहीं

रिपोर्ट : देवेंद्र कुमार टांक E-समाचार.इन (जनता  की  आवाज)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here