सज्जनगढ़ किले से उदयपुर का सौंदर्य देख अभिभूत हुए मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला

0
26

उदयपुर, 28 मई। शिक्षा (प्राथमिक एवं माध्यमिक), संस्कृत शिक्षा, कला, साहित्य, संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला ने पुरातत्व विभाग के संरक्षित स्मारक एवं वन क्षेत्र में स्थित सज्जनगढ़ किले का निरीक्षण किया। सज्जनगढ़ से उदयपुर के नैसर्गिंक सौंदर्य को देखकर वे अभिभूत हुए और उन्होंने यहां पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए नवाचार करने के निर्देश दिए। मंत्री ने इस किले परिसर में पर्यटन को बढ़ावा देने हेतु लघु संग्रहालय खोले जाने के निर्देश दिए गए-सज्जनगढ़ किले से उदयपुर का सौंदर्य देख अभिभूत हुए मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला

सज्जनगढ़ किले से उदयपुर का सौंदर्य देख अभिभूत हुए मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला

यहां पर उन्होंने पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग द्वारा करवाये गए संरक्षण एवं जीर्णाेद्धार कार्यों का अवलोकन किया और कार्याे पर संतोष जताते हुए कुछ महत्वपूर्ण सुझाव भी दिए। इस अवसर पर पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग के उदयपुर वृत अधीक्षक नीरज त्रिपाठी द्वारा बुके देकर स्वागत किया। विभाग के अधिशाषी अभियंता मुकेश शर्मा ने संरक्षण कार्यों की जानकारी दी गई। उप वन संरक्षक अजीत उचोई ने वन विभाग द्वारा स्मारक में की जा रही गतिविधियों के बारे में बताया।

इस अवसर पर सहायक अभियंता मदनलाल, कार्य संवेदक रवि, मंत्री के निजी सहायक विजय गुप्ता सहित पुरातत्व एवं वन विभाग के कर्मचारी मौजूद रहे।गौरतलब है कि यह किला पुरातत्व एवं संग्रहालय विभाग, राजस्थान का संरक्षित स्मारक है लेकिन यह वन क्षेत्र में होने के कारण यहां पर वन विभाग द्वारा ही आवागमन शुल्क, विकास एवं पार्किंग शुल्क लिया जाता है।

जनार्दनराय नागर राजस्थान विद्यापीठ के 14वें दीक्षांत समारोह में की शिरकतः
शिक्षा मंत्री डॉ बी. डी. कल्ला ने शनिवार को जनार्दनराय नागर राजस्थान विद्यापीठ डीम्ड टू बी विश्वविद्यालय के प्रतापनगर स्थित खेल मैदान पर आयोजित 14वें दीक्षांत समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की। श्री कल्ला ने कहा कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में सभी को सच्चे धर्म का अर्थ जानना बेहद आवश्यक है और सत्य ही सच्चा धर्म है, जो विभिन्नताओं से भरे हमारे इस देश को अनेकता में एकता के सूत्र में बांधता है और उसकी अभिव्यक्ति की आजादी को पोषित करता है।


कल्ला ने युवा पीढी से आह्वान किया कि शिक्षा के माध्यम से देश की एकता को बनाए रखने, वसुधैव कुटुम्बकम की भावना को साकार करने, अच्छे नागरिक बनने और बनाने के प्रयास करने होंगे ताकि हमारा देश अपनी गरिमा और आस्थाओं के आदर को बनाए रख सके। उन्होंने नव दीक्षितों से कहा कि ज्ञान जल से भी पतला है जिसे सुभाषित वाक्यों के माध्यम से समाज को पहुंचाने का कार्य करना ही अपनी शिक्षा पूर्ण करने के वास्तविक उद्देश्यों की पूर्ति होगी।

राष्ट्रीय महिला आयोग अध्यक्ष ने किया महिला कारागार व स्वाधार गृह का किया निरीक्षण
उदयपुर, 28 मई। राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने उदयपुर दौरे के दूसरे दिन महिला कारागार का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान महिला बंदी बैरिक में तैयार भोजन की गुणवत्ता, बच्चों के लिए संचालित क्रेच एवं बंदी चिकित्सालय, बंदी मनोरंजन कक्ष का जायजा लेकर कारागृह में महिलाओं से संवाद किया। संवाद के दौरान महिला बंदियों ने अपनी समस्या अध्यक्ष शर्मा के समक्ष रखी।


महिलाओं की समस्याओं का हो समाधान -शर्मा
शर्मा ने प्राप्त विभिन्न परिवेदना के निस्तारण के लिए कारागृह प्रशासन को आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। साथ ही अधीक्षक केंद्रीय कारागृह उदयपुर को मासिक निरीक्षण एवं महिलाओं की समस्याओं के निराकरण के भी निर्देश दिये। उन्होंने समय पर पेशी हेतु भेजने, निःशुल्क अधिवक्ता उपलब्ध कराने, जमानत एवं पैराल की अपील कराने एवं परिवारजनों से वार्ता एवं मुलाकात के लिए नियमानुसार कार्यवाही के निर्देश दिये। अध्यक्ष रेखा शर्मा को महिला कारागृह में नियमानुसार गार्ड ऑफ ऑनर प्रदान किया गया।


इस अवसर पर उपमहानिरीक्षक कारागार रेंज, उदयपुर कैलाश त्रिवेदी, अधीक्षक केन्द्रीय कारागृह राजेन्द्र कुमार, प्रभारी अधिकारी महिला बंदी सुधारगृह श्रीमती विनीता सक्सेना, सुषमा कुमावत अध्यक्षा रोटरी क्लब रेखा सोनी, विजयलक्ष्मी गुलाटिया आदि उपस्थित रहे-सज्जनगढ़ किले से उदयपुर का सौंदर्य देख अभिभूत हुए मंत्री डॉ. बी. डी. कल्ला

सेवा मंदिर द्वारा संचालित स्वाधार गृह भी पहुंची महिला आयोग अध्यक्षः
राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष श्रीमती रेखा शर्मा ने सेवा मंदिर द्वारा संचालित स्वाधार गृह बडगांव के निरीक्षण कर विभिन्न व्यवस्थाओं का जायजा लिया। स्वाधार गृह में निवासरत महिलाओं एवं बच्चों के साथ संवाद कर उन्हें जीवन में आगे बढने एवं शिक्षा से जुडने के लिए प्रेरित किया और बच्चों के लिए नवीन क्रेच खोलने के प्रस्ताव को तैयार करने के निर्देश दिये। उन्होंने निवासरत महिलाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के निर्देश भी प्रदान किये। इस अवसर पर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता उपनिदेशक मान्धाता सिंह, सेवा मंदिर के नरेन्द्र जैन एवं श्रीमती विमला चौहान आदि उपस्थित थे।

स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार 2021-22 के चयन के लिए हुई बैठक :

उदयपुर, 28 मई। स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार 2021-22 के चयन हेतु जिला स्तरीय समिति की बैठक शुक्रवार को जिला कलेक्टर ताराचंद मीणा की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में संपन्न हुई। जिला कलक्टर ने इस पुरस्कार के लिए निर्धारित प्रावधानों के अनुसार कार्यवाही करने के निर्देश दिए। सीडीईओ ओम प्रकाश आमेटा ने बताया कि में 32 विद्यालयों को जिला स्तर पर स्वच्छ पुरस्कार के लिए चयनित किया गया साथ ही 13 विद्यालयों को राज्य स्तर पर स्वच्छ विद्यालय पुरस्कार के लिए नामित किया गया, इनमें से राज्य स्तरीय समिति द्वारा राज्य स्तर पर पुरस्कार हेतु चयन किया जा सकेगा।


राज्य स्तर के लिए नामित विद्यालयों में राउप्रावि मुंडला (सराडा), राउमावि नवानिया (वल्लभनगर), राउमावि डाल (सलूंबर), डीपीएस (बड़गांव), राउप्रावि उपला फला (खेरवाड़ा), राउप्रावि वाघपुर (खेरवाड़ा), एमएमपीएस (गिर्वा), राबाउमावि रेजिडेंसी उदयपुर, एमसीजीएस धानमंडी उदयपुर, एमएमवीएम उदयपुर, एमसीजीएस ऋषभदेव राउप्रावि झरमाल तथा एमजीजीएस खोलड़ी (झल्लारा) शामिल है। बैठक में सीएमएचओ प्रतिनिधि, अधीक्षण अभियंता विपिन जैन, पीईईओ शरद पारीक व यशवंत कुमार शर्मा, प्रभारी कार्यक्रम अधिकारी ओमप्रकाश विश्नोई,एनजीओ प्रतिनिधि प्राची शर्मा,कशिश रावल तथा एमआईएस विक्रम गहलोत उपस्थित थे।

मोटापा-मधुमेह निवारण योग आयुर्वेद शिविर का समापन :

उदयपुर, 28 मई। राजकीय आदर्श आयुर्वेद औषधालय व पतंजलि योग समिति के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित मोटापा-मधुमेह निवारण योग शिविर का समापन शनिवार को औषधालय के योग हॉल में हुआ। शिविर में योगाभ्यास अशोक जैन नें सभी प्रतिभागियों को नवीनता के साथ योगाभ्यास करवाया व योग एवं प्राणायाम का महत्व बताया। आयुर्वेद चिकित्साधिकारी ने प्रतिभागियों को नियमित योग करने का संकल्प दिलाया और स्वस्थ एवं निरोगी जीवन के लिए आयुर्वेद के अनुसार दिनचर्या निर्धारित करने की बात कही।

रिपोर्ट : देवेंद्र कुमार टांक   E–समाचार.इन (जनता  की  आवाज)

INDIAN GOVERNMNET REGISTERED  (RNI -MPHIN /2020 /35645 )

कृपया सभी जन मास्क लगाए।  सोशल दुरी रखे।  बार – बार अपने हाथों को साबुन या सेनेटाइजर साफ़ करिये। भीड़ –भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचिए। अपना और अपने परिवार वालों का अपने बच्चो का ख्याल रखिये।  स्वस्थ्य रहिये –सुरक्षित रहिये।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here