ब्राजील में राष्ट्रपति एवं उनकी सरकार पर वैक्सीन घोटाले का आरोप

0
51
Jair Bolsonaro, Brazil's president, pauses while speaking during a news conference at the Planalto Palace in Brasilia, Brazil, on Wednesday, March 31, 2021. Commanders of Brazil's army, navy and air force were fired on Tuesday after Bolsonaro dismissed his defense chief as part of a broader cabinet restructuring. Photographer: Andressa Anholete/Bloomberg via Getty Images

एजेंसी/ द न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार / ई समाचार मीडिया/ बेतवा भूमि समाचार/ देवेंद्र कुमार टाक : ब्राजील में राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो के खिलाफ बड़े पैमाने पर प्रदर्शन हो रहे हैं रियो डी जेनेरियो में हजारों लोगों ढोल की थाप पर मार्च करते हुए “बोलसोनारो गद्दी छोड़ो” के नारे लगाते हुए रोड पर प्रदर्शन कर रहे हैं-ब्राजील में राष्ट्रपति एवं उनकी सरकार पर वैक्सीन घोटाले का आरोप

ब्राजील में राष्ट्रपति एवं उनकी सरकार पर वैक्सीन घोटाले का आरोप
ब्राज़ील में राष्ट्रपति जैर बोल्सोनारो के खिलाफ प्रदर्शन

इसकी मुख्य वजह यह है कि कोरोना को लेकर बोलसोनारो की नीतियां और  वैक्सीन खरीद में भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं, बोलसोनारो पहले तो करोना को फ्लू की एक सामान्य बीमारी बताते रहे, इस वजह से समय रहते देश में इसकी रोकथाम के उपाय नहीं किए जा सके

लोगों में इसे लेकर पहले से आक्रोश था, बोलसोनारो की इन धूल मूल नीतियों की वजह से देश में 5 लाख से अधिक  लोगों की महामारी से मौत हो चुकी है, अब ताजा विवाद वैक्सीन खरीद में रिश्वत मांगने के आरोपों का लगा है, सुप्रीम कोर्ट ने इसकी जांच के आदेश भी दे दिए हैं वहीं विपक्षी दलों के 100 नेता बोलसोनारो पर महाभियोग चलाने का ड्राफ्ट भी प्रस्तुत कर चुके हैं

उनका कहना है कि 2016 में जिस तरह आक्रोशित लोगों ने प्रदर्शनों के बाद राष्ट्रपति डिल्मा रूसेफ को हटाया था, वैसे ही प्रदर्शन अब हो रहे हैं, साओ पाउलो के कांग्रेस के सदस्य जोइस हैसलमेन कुछ समय पहले तक बोलसोनारो के कट्टर समर्थक थे, अब वह कहते हैं कि कोरोना को लेकर बोलसोनारो ने जो अपराध किए हैं, रेशमा योग्य नहीं है

ब्राजील बोलसोनारो को एक और साल बर्दाश्त नहीं कर सकता है, जैसे-जैसे महाभियोग का समर्थन करने वाले सांसदों की संख्या बढ़ रही हैं, वे बोल ने होने वाले चुनाव में धोखाधड़ी होने की बात करनी शुरू कर दी है, उनका कहना है कि अगले साल इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन ( ईवीएम) से चुनाव होने हैं

इनमें आसानी से धांधली हो सकती हैं, उनकी चुनावी हार धोखाधड़ी का परिणाम होगी, दूसरी ओर कोरोना से लड़ने के लिए बनाई गई विशेष समिति के सदस्य सीनेटर हंबर्टो कोस्टा के अनुसार बोलसोनारो की छवि पहले ईमानदार राजनेता की थी लेकिन वैक्सिंग घोटाले ने सभी को बहुत ही खराब कर दिया है

ब्राजील में किए गए सर्वे बताते हैं कि बीते 15 महीने में महामारी ने बड़ी संख्या में लोगों को तबाह किया है, और इससे बोलसोनारो का आधार तेजी से सिकुड़ गया है, सर्वे करने वाली एजेंसी की पैक के सर्वे के अनुसार यदि ब्राजील में अभी चुनाव हों तो बोलसोनारो अपने मुख्य राजनीतिक प्रतिद्वंदी और पूर्व राष्ट्रपति लुइज इनासियो लूला डा सिल्वा से हार जाएंगे

ब्राज़ील में राष्ट्रपति जैर बोल्सोनारो

साओ पाउलो में गेटुलियो वर्गास फाउंडेशन के राजनीतिक विश्लेषक और प्रोफेसर गुइलहर्मे कासारेस ने कहा कि राष्ट्रपति के राजनीतिक अलगाव ने उन्हें कट्टरपंथी बना दिया है यह ब्राजील के लिए बहुत ही शर्मनाक स्थिति है एवं बड़े दुख की बात है कि भ्रष्टाचार में लिप्त होकर बोलसोनारो ने अपने देश के साथ गद्दारी की

आइए समझते हैं ब्राजील वैक्सीन घोटाला : ब्राजील में भारत बायोटेक की प्रतिनिधि प्रेसीसा मेडिकेमेंट्स को-वैक्सीन खरीदने के लिए फरवरी में डील की गई,प्रतिरोध की कीमत 15 डॉलर तय हुई ( लगभग 1125 रुपए),इस हिसाब से कुल 32 करोड़ डॉलर का भुगतान होना था

दिल में रिश्वत की बात आने पर यह रद्द हो गई थी, उस दिन बाद एक दवा कंपनी के प्रतिनिधि ने स्वास्थ्य मंत्रालय में लॉजिस्टिक्स के प्रमुख रोबेर्टो फरेरा डायस पर एस्ट्राजेनेका से  टीके खरीदने के लिए प्रति खुराक 1 डॉलर रिश्वत लेने के आरोप लगाए हैं-ब्राजील में राष्ट्रपति एवं उनकी सरकार पर वैक्सीन घोटाले का आरोप

रिपोर्ट : देवेंद्र कुमार टांकE-समाचार.इन (जनता  की  आवाज)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here